'2024 से पहले लाया जाए सामान नागरिक संहिता कानून..', स्वामी रामभद्राचार्य ने उठाया मुद्दा

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के चित्रकूट में 15 दिसंबर को ‘हिंदू एकता महाकुंभ’ का आयोजन किया जा रहा है. इसमें पूरे देश के नामी साधु संत शामिल होने वाले हैं. इसके साथ ही, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के वरिष्ठ पदाधिकारी भी कार्यक्रम में शामिल होंगे. RSS चीफ मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) मुख्य अतिथि होंगे. इसी बीच, हिंदू एकता महाकुंभ के अध्यक्ष जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य (Jadguru Swami Rambhadracharya) ने मीडिया से बातचीत करते हुए बड़ा बयान दिया है.

जगद्गुरु स्वामी रामभद्राचार्य ने कहा कि देश में हिंदुओं की जनसँख्या तेजी से घट रही है. देश में हो रहे धर्मांतरण के कारण तेजी से हिंदुओं की आबादी में गिरावट दर्ज की जा रही है. उन्होंने कहा कि इस कारण हिंदुओं का अस्तित्व खतरे में है. इधर दो बच्चे पैदा हो रहे हैं और उधर 20-25 बच्चे पैदा किए जा रहे हैं. रामभद्राचार्य ने कहा कि RSS चीफ मोहन भागवत के सामने समान नागरिक आचार संहिता का मुद्दा उठाया जाएगा. मैं संतों का प्रमुख हूं और वह संघ के प्रमुख हैं. इसलिए उनके सामने ये बात रखी जाएगी. इसलिए ही उन्हें कार्यक्रम में आमंत्रित किया गया है.

रामभद्राचार्य ने आगे कहा कि 2024 से पहले संसद में समान नागरिक आचार संहिता विधेयक (Uniform Civil Code) लाया जाना चाहिए. 100 करोड़ हिंदू एक साथ आवाज उठाएंगे तो संसद को भी सुनना पड़ेगा. बता दें कि ‘हिंदू एकता महाकुंभ’ में साधु-संतों, राजनेताओं सहित बॉलीवुड जगत की हस्तियां भी शामिल होने वाली हैं. यूपी में अगले साल विधानसभा चुनाव प्रस्तावित हैं. ऐसे में चुनाव से पहले भाजपा भी RSS के एजेंडें को आगे बढ़ाने की कोशिश करेगी. इससे पहले भाजपा नेताओं ने कई बार समान नागरिक आचार लागू करने की मांग की है.

राकेश टिकैत को मिलेगा अंतर्राष्ट्रीय सम्मान, लंदन की इस कंपनी ने किया ऐलान

NIMHANS दे रहा इन पदों पर नौकरी का शानदार मौका, जल्द करें आवेदन

अब विधानसभाओं और सांसद में नहीं चलेगा 'वन्दे मातरम्' ?

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -