​क्या निवेश को लेकर सावधान रहने का जरूरत ?

​क्या निवेश को लेकर सावधान रहने का जरूरत ?

लॉकडाउन और कोरोना संकट के बीच महामारी के चलते बने हालात में बाजार की हालत किसी से छिपी नहीं है.हर जगह गिरावट का रुख दिख रहा है.बहुत से निवेशकों का पैसा भी डूबा है.यह मुश्किल वक्त अभी लंबा खिंच सकता है.ऐसे में इस वक्त निवेश के मामले में बहुत सतर्क होकर कदम बढ़ाने की जरूरत है.एक लिहाज से देखा जाए तो यह अवसर भी है, क्योंकि इस समय कई मजबूत फंडामेंटल वाली कंपनियों के शेयर भी ऐसी कीमत में मिल रहे हैं, जो शायद और किसी हाल में संभव नहीं होता.इसलिए यह वक्त सोच समझकर सही दिशा में कदम बढ़ाने का भी है.

इन तरीकों का उपयोग करके पैसे से बना सकते है पैसा

हमारे जान पहचान के एक सहयोगी है.उनका बेटा मोटर स्पो‌र्ट्स को हद से ज्यादा पसंद करता है.उन्होंने मुझे बताया कि दिग्गज एफ वन ड्राइवर एर्टन सेना ने एक बार कहा था कि जब सूरज चमक रहा हो तो आप 15 दूसरी कारों को ओवरटेक नहीं कर सकते लेकिन जब बारिश हो रही हो तो आप ऐसा कर सकते हैं.कुछ लम्हों तक तो मैं समझ ही नहीं पाया कि इसका क्या मतलब है क्योंकि बारिश में रेस में तेज गति से कार चलाना काफी मुश्किल होगा.यह समझने में मुझे कुछ समय लगा कि सेना की इस बात का क्या मतलब है और यह बात इन्वेस्टिंग में कैसे लागू होती है.लेकिन समझ में आने के बाद यह बात वाकई बहुत कारगर नजर आई.दरअसल बारिश में रेस ट्रैक पर फिसलन के चलते सभी को अपनी कार की रफ्तार कम करनी पड़ी.उस समय सेना को भी कार धीमी करनी पड़ी, लेकिन अपनी काबिलियत के चलते उन्हें अपनी कार अन्य लोगों से कम धीमी करनी पड़ी.इसका मतलब कि उस मुश्किल वक्त में गति कम करने के बावजूद उनकी कार बाकी से तेज रही और वह आगे निकल गए।

कोरोना वायरस से अर्थव्यवस्था की गति हुई धीमी, संक्रमण समाप्त होने से मिल सकती है रफ्तार

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि इस तरह उस मुश्किल हालात ने उनके लिए चीजों को आसान बना दिया, जो दूसरों से बेहतर थे.मौजूदा दौर में निवेश की दुनिया में भी ऐसा ही है.आने वाले महीनों और वर्षों में आप इस विचार का साकार रूप बिजनेस और इन्वेस्टिंग की दुनिया में देखेंगे.हर इंडस्ट्री में यहां तक कि सबसे बुरी तरह से प्रभावित जैसे उड्डयन और ट्रैवल में भी मजबूत लोग और मजबूत बनकर उभरेंगे.समझदार निवेशक अब तक इस बात को जान चुके हैं.इसीलिए जब बाजार में बड़ी गिरावट के वक्त जैसे बिकवाली का जोर दिखा, उसी तरह से बाजार में उछाल आने पर खरीदारी की लहर भी आती रही.

किसान सम्मान निधि में लाभार्थियों की लिस्ट ऐसे करें चेक

भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए यह सप्ताह रहा काफी अहम

इस कंपनी ने घाटे के बाद भी भारतीय कर्मचारी को दिया दुगना वेतन