5 वर्ष बाद मुठभेड़ में किसी कर्नल की शाहदत, हंदवाड़ा के कमांडिग अफसर थे आशुतोष शर्मा

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में हंदवाड़ा के अंतर्गत आने वाले राजवार इलाके में सेना और आतंकियों के बीच हुए एनकाउंटर में कमांडिंग ऑफिसर कर्नल आशुतोष शर्मा चार अन्य सुरक्षाकर्मियों के साथ शहीद हो गए. शुक्रवार को शुरू हुए इस अभियान की कमान कर्नल आशुतोष शर्मा ही संभाल रहे थे. 21-राष्ट्रीय राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर कर्नल आशुतोष शर्मा हंदवाड़ा क्षेत्र का जिम्मा संभालते थे. लेकिन शनिवार शाम सुरक्षाकर्मियों और आतंकियों के बीच हुए एनकाउंटर में कर्नल शहीद हो गए.

दरअसल यह इलाका घने जंगलों वाला है इसलिए आए दिन यहां पर घुसपैठ की वारदातें होती रहती हैं. शुक्रवार को आर्मी को सूचना मिली थी कि यहां एक घर में कुछ आतंकी छिपे हुए हैं, जिसके बाद सेना ने तलाशी अभियान शुरू किया था. इस दौरान ही सेना और आतंकियों के बीच भीषण मुठभेड़ शुरू हो गई. इस अभियान में कर्नल आशुतोष शर्मा भी थे, जिनसे शनिवार शाम को ही संपर्क टूट गया था. रविवार सुबह एनकाउंटर वाले इलाके में तलाशी ली गई, जहां सात शव मिले. इसमें पांच सेना के जवान और दो विदेशी आतंकियों के शव थे.

सेना द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, इस भीषण एनकाउंटर में कर्नल आशुतोष शर्मा, 21 राष्ट्रीय राइफल्स के मेजर अनुज सूद, नायक राजेश, लांस नायक दिनेश के साथ जम्मू कश्मीर पुलिस के सब इंस्पेक्टर शकील काजी शहीद हो गए. आपको बता दें कि एनकाउंटर में किसी कमांडिंग ऑफिसर की शहादत तक़रीबन पांच साल के बाद हुई है. इससे पहले 2015 के जनवरी महीने में कर्नल एमएन राय मुठभेड़ में शहीद हुए थे.

जानिए कैसा रहने वाला है लॉकडाउन 3

केरल : जानिए राज्य में कोरोना को लेकर सरकार के नए दिशा-निर्देश

एक और को-ऑपरेटिव बैंक पर RBI का एक्शन, रद्द किया लाइसेंस

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -