30 की उम्र के बाद न करें जरुरी प्रोटीन को नज़रअंदाज़

30 की उम्र के बाद न करें जरुरी प्रोटीन को नज़रअंदाज़

अगर आप स्‍वस्‍थ और सुंदर रहना चाहते हैं तो आपको इस जरूरी प्रोटीन के बारे में मालूम होना चाहिए. उम्र के बढ़ने के साथ आपको उन जरुरी प्रोटीन की जरूरत होती है. इन्हें अनदेखा करना आपके लिए खतरनाक भी साबित हो सकता है. कोलेजन प्रोटीन (collagen protein) न केवल हमारी मांसपेशियों और बोन हेल्‍थ के लिए जरूरी है. बल्कि इससे त्‍वचा भी जवां और चमकदार बनी रहती है. आइये जानते हैं उम्र के बढ़ने के साथ किस तरह रखें खुद का ध्यान. 

क्‍या है कोलेजन प्रोटीन 
यह बॉडी में पाया जाने वाला एक प्रोटीन है, जो हड्डियों, कार्टिलेज और स्किन को हेल्दी रखने में काम आता है. बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य के लिए यह सबसे जरूरी प्रोटीन है. अगर बॉडी में कोलेजन लेवल कम होने लगता है, तो हड्डियों का कमजोर होना, स्किन पर रिंकल्स आना और जॉइंट्स पेन जैसी प्रॉब्लम्स आने लगती हैं. 

क्‍यों है जरूरी  
कोलेजन मानव शरीर में सबसे अधिक मात्रा में पाया जाने वाला एक प्रोटीन है, जो हड्डियों, मांसपेशियों, त्वचा और टेंडन (हड्डियों और मांसपेशियों को आपस में जोडऩे वाला एक मुख्य तत्व) में मौजूद होता है. कोलेजन समग्र शरीर में मौजूद प्रोटीन का 25 से 35 प्रतिशत अंश बनाता है. कोलेजन को आपके शरीर की बनावट और ताकत के लिए बहुत महत्वपूर्ण माना गया है.

कोलेजन के मांसाहारी स्रोत 
मांस, चिकन, पोर्क (खास तौर से पैर), पोर्क स्किन, हड्डी का सूप, मछली, सामन और ट्यूना भी अपने आहार में शामिल कर सकते हैं.

कोलेजन के शाकाहारी स्रोत 
लाल रंग के फल और सब्जियों में कोलेजन की अच्‍छी मात्रा होती है. सेब, स्ट्रॉबेरी, चेरी, चुकंदर, रेड पेप्पर्स, मिर्च, वगैरह जैसे लाल फल और सब्जियों में लाइकोपीन होता है. यह पदार्थ एक बेहतरीन एंटीऑक्सीडेंट होने के अलावा, कोलेजन के उत्पादन को बढ़ावा देने में मदद करता है. साथ ही वे फल जिनमें विटामिन सी पर्याप्‍त मात्रा में होता है.

मानसून में पैरों को होती अधिक देखभाल की जरूरत, जानें टिप्स

क्या आप जानते हैं मेहंदी लगाने के लाभ!

5 पौधे जो मच्छरों को रख सकते हैं आपके घर से दूर