इन महान नायकों की याद में मनाया जाता है कोयला क्रांति दिवस

May 04 2021 09:38 AM
इन महान नायकों की याद में मनाया जाता है कोयला क्रांति दिवस

कोयला क्रांति दिवस 4 मई को औद्योगिक क्रांति के कुछ महान अनसुने नायकों की कड़ी मेहनत को पहचानने के लिए मनाया जाता है। कोयला खदानों के ज्यादातर दिन खानों को खोदने, सुरंग बनाने तथा कोयला निकालने में खर्च होते हैं। वे पृथ्वी पर गहरी खुदाई करते हैं जिससे हमारे जीवन को बनाए रखने में सहायता करने वाले धन को बाहर लाया जा सके। कोयला खनन सबसे मुश्किल व्यवसायों में से एक है। कोयला खनिकों के लिए प्रशंसा दिखाने तथा उनकी कामयाबियों का सम्मान करने के लिए दिन मनाया जाता है।

कोयला खनिक सदियों से काम कर रहे हैं, हालांकि, 1760 तथा 1840 के बीच औद्योगिक क्रांति के चलते वे बहुत महत्वपूर्ण हो गए जब कोयले का इस्तेमाल बड़े पैमाने पर ईंधन तथा लोकोमोटिव इंजन और गर्मी इमारतों में किया गया। कोयला एक प्राकृतिक संसाधन है जो आर्थिक तथा सामाजिक विकास दोनों को तेज करता है।

भारत में, कोयला खनन का आरम्भ 1774 में हुआ जब ईस्ट इंडिया कंपनी के जॉन समर तथा सुएटोनियस ग्रांट हीटली ने दामोदर नदी के पश्चिमी किनारे के साथ रानीगंज कोलफील्ड में वाणिज्यिक खोज आरम्भ की। 1853 में रेलवे द्वारा भाप इंजनों के आरम्भ के पश्चात् कोयले की मांग में इजाफा हुआ है। हालांकि, यह काम करने के लिए एक स्वस्थ नहीं था। लाभ के नाम पर कोयला खदानों में अत्यधिक शोषण तथा नरसंहार के कई हादसे हुए। खनन ने भारत की अर्थव्यवस्था का एक बड़ा भाग गठित किया है। स्वतंत्रता के पश्चात्, भारत सरकार ने पंचवर्षीय योजनाओं के आधार पर खनन उद्योग तथा विकास पर अधिक ध्यान केंद्रित किया। वर्तमान में, भारत कोयला, तेल, प्राकृतिक गैस, तथा बॉक्साइट, डोलोमाइट, फ्लोरास्पार, जिप्सम, लौह अयस्क, चूना पत्थर, तांबा, शतावरी और जस्ता जैसे धातु और गैर-धातु खनिजों के शीर्ष भंडार में से एक बन गया है। 

नेशनल हॉस्पिटल में कोरोना पीड़ितों के साथ हो रही है लूट, आईएएस व अन्य बड़े अफसर भी हुए शिकार

एयर इंडिया अमृतसर-रोम की फ्लाइट में 30 लोग पाए गए कोरोना संक्रमित

कानपुर में लगी आग, 4 दुकाने जलकर पूरी तरह हुई खाक