क्या दिल्ली में बना रहेगा बिजली संकट? कोयला मंत्री ने दिया जवाब

दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में कोयले की कमी से जारी बिजली संकट को लेकर लगातार बयान सामने आ रहे हैं और अब इसे लेकर देश की राजनीति में गर्माहट देखने के लिए मिल रही है। बीते शनिवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी थी। अब केंद्रीय कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कोयले की कमी को लेकर स्पष्टीकरण दिया। हाल ही में उन्होंने कहा, 'आयातित कोयले की कीमत एकदम से बढ़ जाने के कारण बड़ा असर पड़ा है। भारी बारिश घरेलू कोयला उत्पादन पर दबाव के चलते समस्या पैदा हुई है। बावजूद इसके अकेले अक्टूबर महीने में सबसे ज्यादा कोयले का उत्पादन हुआ है। अगले 3-4 दिनों में हालात सामान्य हो जाएंगे। मुझे पता लगा है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री ने भी खत लिखा है। NTPC इसे सम्हालता है। मैं वितरित जानकारी के बाद बयान दूंगा।'

आप सभी को यह भी जानकारी दे दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बीते शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को मौजूदा कोयले की कमी की स्थिति के बारे में पत्र लिखकर जानकारी दी है। उन्होंने लिखा, "अगस्त से जारी समस्या ने दिल्ली के एनसीटी को बिजली की आपूर्ति करने वाले प्रमुख केंद्रीय उत्पादन प्लांटों से बिजली उत्पादन को प्रभावित किया है।"

इसी के साथ पत्र में आगे लिखा गया है, "सीईआरसी टैरिफ विनियम (विनियम 34) उत्पादन स्टेशन को पिथेड गैर-पिथेड स्टेशनों के लिए 10 दिनों 20 दिनों के कोयला स्टॉक को बनाए रखने के लिए अनिवार्य करता है।" वहीं आगे केजरीवाल ने लिखा है, "इस स्थिति में, दिल्ली को बिजली की आपूर्ति करने वाले गैस स्टेशनों पर निर्भरता बढ़ जाती है। हालांकि, दिल्ली को बिजली की आपूर्ति करने वाले गैस प्लांटों में पूरी क्षमता से चलाने के लिए पर्याप्त एपीएम गैस नहीं है। यह दिल्ली में बिजली आपूर्ति की स्थिति को गंभीर रूप से प्रभावित करेगा।"

UP: कुमार विश्वास को मिली बड़ी राहत

DC vs CSK: आज जीती टीम को मिलेगा फाइनल का टिकट, ये हो सकती है प्लेइंग 11

'अंधेरे में डूब सकती है दिल्ली।।।', CM केजरीवाल ने पीएम मोदी को पत्र लिखकर मांगी मदद

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -