डॉलर शेषाद्री की मौत पर सीएम वाई एस जगन मोहन ने जताया दुःख

डॉलर शेषाद्री के नाम से मशहूर तिरुमाला मंदिर के वरिष्ठ पुजारी पाला शेषाद्रि का सोमवार तड़के हार्ट अटैक के कारण देहांत हो गया। वह 74 साल के थे। तिरुमाला तिरुपति देवस्थानम (TTD) के विशेष कर्तव्य अधिकारी (OSD) को दिल का दौरा पड़ा था हॉस्पिटल ले जाते  वक़्त उन्होंने आखिरी सांसे ली। शेषाद्री तत्कालीन राष्ट्रपति ज्ञानी जैल सिंह, पीएम पी वी नरसिम्हा राव, AB वाजपेयी, मनमोहन सिंह, नरेंद्र मोदी, कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों राज्यपालों अन्य वीआईपी के मंदिर की यात्रा के बीच दिव्य मार्गदर्शक रह चुके है।

सुपर पुजारी, जिन्हें डॉलर शेषाद्री भी बोला जाता था,उन्होंने गवर्नमेंट में बहुत प्रभाव डाला राजनेताओं नौकरशाहों के साथ अच्छे संबंध सांझा किए। वर्ष 2007 में मंदिर के खजाने से डॉलर नामक 310 सोने के सिक्कों के घोटाले के उपरांत से शेषाद्री सबकी की निगाहों में आ चुके थे। जहां इस बात का पता चला है कि वर्ष  2005 में जब शेषाद्री प्रभारी थे तब डॉलर गायब हो चुके थे। वहीं अगस्त 2008 में एक सतर्कता जांच के उपरांत उन्हें 2 उप कार्यकारी अधिकारियों को आरोपित करने के उपरांत उन्हें निलंबित भी किया गया था। हालांकि, शेषाद्री ने TTD को निर्दोष होने का दावा करते हुए पत्र भी लिख दिया था।

2010 में शेषाद्री को एक विस्तार दिए जाने के उपरांत, कांग्रेस नेता मगुंती गोपाल रेड्डी ने एक जनहित याचिका के माध्यम से आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय में इसे चुनौती भी दी गई थीं। याचिकाकर्ता ने  इलज़ाम लगाया कि मंदिर के गहनों से जुड़े कई घोटालों में उनका नाम सामने आने के उपरांत भी  TTD द्वारा उन्हें अनुचित लाभ मिल रहा था। उन्होंने अदालत से शेषाद्री पर नार्को विश्लेषण, ब्रेन मैपिंग लाई डिटेक्टर परीक्षण करने का भी अनुरोध किया।

मिली जानकारी के अनुसार 2011 में, आंध्र प्रदेश उच्च न्यायालय ने शेषाद्रि की सेवाओं के विस्तार को पूरी तरह से रद्द कर दिया गया था। हालांकि, सुपर पुजारी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, जिसने इस आधार पर उनके पक्ष में निर्णय सुनाया कि सेवा से संबंधित मामलों पर जनहित याचिका दायर नहीं की जा सकती है।  तब से शेषाद्रि को OSD के रूप में सेवा विस्तार दिया जा रहा था। इसे TTD के इतिहास में एक रिकॉर्ड बताया जाता है। वहीं आंध्र प्रदेश के सीएम वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने टीटीडी के OSD शेषाद्री के निधन पर दुख दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने शेषाद्रि के शोक संतप्त परिवार के सदस्यों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की, जो 1978 से टीटीडी के साथ थे।

ओमीक्रॉन प्रभावित देशों से भारत आने वालों के लिए यह हैं 5 खास नियम

मिलिए भारत की 'सुपर वुमन' से, जिन्हे Forbes ने दिया तीसरी सबसे ताकतवर महिला का खिताब

भारतीय रेलवे: बिना एग्जाम दिए इन पदों पर पा सकते हैं नौकरी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -