पेपर लीक की घटनाओं के बीच सीएम योगी ने अपनाया सख्त रुख, कड़ा कानून लाने की तैयारी में योगी सरकार

पेपर लीक की घटनाओं के बीच सीएम योगी ने अपनाया सख्त रुख, कड़ा कानून लाने की तैयारी में योगी सरकार
Share:

लखनऊ: प्रमुख प्रवेश परीक्षाओं, नीट और यूजीसी-नेट में अनियमितताओं को लेकर उठे विवाद के बीच, उत्तर प्रदेश सरकार पेपर लीक रोकने और 'सॉल्वर गैंग' पर लगाम लगाने के लिए एक नया कानून लाएगी। नए कानून में पेपर लीक और परीक्षा के पेपर सॉल्व करने वाले गिरोह जैसी गतिविधियों में शामिल लोगों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई का प्रावधान होगा। भारी जुर्माना, बुलडोजर कार्रवाई और यहां तक ​​कि जेल का भी प्रावधान होगा। 

योगी आदित्यनाथ की अगुवाई वाली सरकार की यह घोषणा राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) द्वारा UGC-NET (विश्वविद्यालय अनुदान आयोग - राष्ट्रीय पात्रता परीक्षा) परीक्षा रद्द करने के कुछ ही दिनों बाद आई है। केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा कि परीक्षा का प्रश्नपत्र डार्कनेट पर लीक हो गया था। इसके अलावा, एनईईटी कथित अनियमितताओं के लिए भी जांच के दायरे में है। इस पृष्ठभूमि में, उत्तर प्रदेश सरकार ने घोषणा की है कि वे परीक्षा प्रक्रिया की शुचिता सुनिश्चित करने के लिए एक नया कानून लाएगी। इसके अलावा, सरकार ने पेपर काउंटिंग रोकने के लिए एक नई नीति की घोषणा की है। प्रत्येक परीक्षा शिफ्ट में अलग-अलग एजेंसियों द्वारा मुद्रित कम से कम दो अलग-अलग पेपर सेट होंगे। पेपर कोडिंग प्रक्रिया भी अधिक व्यवस्थित तरीके से आयोजित की जाएगी।

केवल सरकारी माध्यमिक विद्यालय, डिग्री कॉलेज, विश्वविद्यालय, पॉलिटेक्निक, इंजीनियरिंग कॉलेज, मेडिकल कॉलेज या फिर साफ-सुथरे रिकॉर्ड वाले प्रतिष्ठित, अच्छी तरह से वित्तपोषित शैक्षणिक संस्थानों को ही परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा। इन केंद्रों पर सीसीटीवी सिस्टम लगे होंगे और भर्ती परीक्षा आयोजित करने के अलग-अलग पहलुओं के लिए चार अलग-अलग एजेंसियां ​​जिम्मेदार होंगी। परीक्षा देने के लिए अभ्यर्थियों को अपने गृह मंडल से बाहर जाना होगा। हालांकि, यह प्रतिबंध दिव्यांग व्यक्तियों और महिलाओं पर लागू नहीं होगा। यदि 4 लाख से अधिक अभ्यर्थी हैं, तो परीक्षा दो चरणों में आयोजित की जाएगी।

प्रांतीय सिविल सेवा परीक्षा एक ही पाली में आयोजित की जा सकती है। परिणामों से छेड़छाड़ को रोकने के लिए, ओएमआर शीट की स्कैनिंग आयोग और बोर्ड द्वारा स्वयं की जाएगी। प्रश्नपत्रों में गुप्त कोड और गोपनीय सुरक्षा विशेषताएं शामिल होंगी, जैसे कि प्रत्येक पृष्ठ पर अद्वितीय बारकोड, क्यूआर कोड और सीरियल नंबर, ताकि पता लगाया जा सके। प्रश्नपत्रों के परिवहन में छेड़छाड़-रोधी, बहु-परत पैकेजिंग शामिल होगी। प्रश्नपत्रों को तैयार करने के लिए पर्याप्त समय आवंटित किया जाएगा, और मुद्रण एजेंसियों का नियमित रूप से परीक्षा नियंत्रक द्वारा निरीक्षण किया जाएगा।

प्रिंटिंग प्रेस का चयन अत्यंत गोपनीयता के साथ किया जाएगा। प्रेस में आने वाले आगंतुकों की जांच की जाएगी और पहचान पत्र अनिवार्य होगा। बाहरी लोगों को प्रेस में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी। प्रेस के भीतर स्मार्टफोन और कैमरा ले जाने पर पूर्ण प्रतिबंध लगाया जाएगा। प्रेस के चारों ओर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे, जिनकी रिकॉर्डिंग एक साल तक रखी जाएगी।

राज्यसभा में जेपी नड्डा को अपना नेता बना सकती है भाजपा - सूत्र

NEET पेपर लीक: बिहार में नितीश कुमार, सिकंदर यादवेंदु सहित 13 गिरफ्तार

ममता बनर्जी ने PM से की 3 आपराधिक कानून को रोकने की मांग, जानिए इनपर क्या बोले थे CJI चंद्रचूड़ ?

 

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
Most Popular
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -