अग़र कलेक्टर जनता की नही सुनते तो हटा दो, शिवराज

भोपाल. मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा की जा रही वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा सरकारी अफसरों में आजकल खौफ का माहौल है. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के द्वारा शिवराज सिंह चौहान हर जिले के मामलो की समीक्षा कर रहे है जिसके कारण प्रदेश के सरकारी नौकरशाह सकते में है. जब मुख्यमंत्री को पता चला की तीन उचित मूल्य की दुकानों पर एफआईआर दर्ज कराने को लेकर कलेक्टर आरबी प्रजापति ने गैरजिम्मेदाराना काम किया है तो मुक्यमंत्री ने साफ साफ कहा की अग़र कलेक्टर लोगो की नही सुन रहे है तो उन्हें हटा दो. व मुख्यमंत्री ने साथ साथ जिला पंचायत सीईओ से बात कर रहे शिवपुरी कलेक्टर राजीवचंद्र दुबे को भी खरी-खोटी सुनाई. मुख्यमंत्री ने राजधानी में हुए बस के अंदर गैंगरेप की घटना को भी शर्मनाक करार दिया. 

व इसके लिए उन्होंने डॉ. रमन सिंह सिकरवार जो की भोपाल एसएसपी है जबरदस्त रूप से फटकार लगाई. व इस मामले में अशोकनगर कलेक्टर प्रजापति ने सफाई दी कि में डेढ़ माह से छुट्टी पर था तो सीएम ने कहा की एडीशनल कलेक्टर को हटा दो. शिवराज ने कहा की में राजधानी में बस के अंदर हुए रेप की घटना से काफी चिंतित हु व कहा कि अपराधियों में खौफ हो तो वह अपराध करने से पहले सौ बार सोचता है। यह शर्म की बात है कि राजधानी में इतनी बड़ी घटना हो गई। जब मुख्यमंत्री यह बोल रहे थे, तब भोपाल का प्रशासनिक अमला चुप्पी साधे रहे। राजधानी के एसएसपी को जवाब तक नहीं सूझा। मुख्यमंत्री ने कहा कि ईमानदारी पर फूल जैसा और अपराधियों के साथ वज्र जैसा व्यवहार करो। शिवराज ने कड़क लहजे में कहा की   मेरे पास हर कलेक्टर की खबर है व अब हर माह कलेक्टर जिलो का दौरा करेंगे और शासन को बताएंगे कि एक माह में उन्होंने क्या काम किया है.  

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -