अंटार्कटिका की जलवायु में परिवर्तन के कारण स्नो का रंग हुआ हरा

अंटार्कटिका की जलवायु में परिवर्तन के कारण स्नो का रंग हुआ हरा

अंटार्कटिका एक अटूट सफेद जंगल की छवियों को जोड़ता है परन्तु शैवाल के खिलने से जमे हुए महाद्वीप के कुछ हिस्सों में तेजी से हरे रंग का रंग आ रहा है। इसके साथ ही जलवायु परिवर्तन के कारण गर्म तापमान "हरी बर्फ" के निर्माण और प्रसार में मदद कर रहा है और बुधवार को प्रकाशित नए शोध के मुताबिक , यह उन जगहों पर इतना अधिक प्रचलित हो रहा है कि यह अंतरिक्ष से भी दिखाई दे रहा है।जबकि अंटार्कटिका में शैवाल की उपस्थिति लंबे समय से पहले के अभियानों द्वारा नोट की गई थी, जैसे कि ब्रिटिश खोजकर्ता अर्नेस्ट शेकलटन द्वारा किया गया, इसकी पूरी सीमा अज्ञात थी।

इसके साथ ही अब, यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के प्रहरी 2 उपग्रह द्वारा दो वर्षों में एकत्र किए गए आंकड़ों का उपयोग करते हुए, ऑन-द-ग्राउंड टिप्पणियों के साथ, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय और ब्रिटिश अंटार्कटिक सर्वेक्षण की एक शोध टीम ने शैवाल के खिलने का पहला नक्शा बनाया है। वहीं अंटार्कटिक प्रायद्वीप तट।कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी ऑफ प्लांट साइंसेज के यूनिवर्सिटी के मैट डेवी ने रॉयटर्स को बताया, "अब हमारे पास एक आधार रेखा है जहां अल्गुल खिलता है और हम देख सकते हैं कि क्या भविष्य में मॉडल बढ़ने के साथ-साथ खिलने शुरू हो जाएंगे।"

वहीं अंटार्कटिका में मॉस और लाइकेन को प्रमुख प्रकाश संश्लेषक जीव माना जाता है - परन्तु नए मानचित्रण में 1,679 अलग-अलग अल्ग्ल खिलने पाए गए जो महाद्वीप के वायुमंडल से कार्बन डाइऑक्साइड को पकड़ने की क्षमता में एक प्रमुख घटक हैं। वहीं डेवी ने कहा, "अंटार्कटिका में अल्गुल खिलने से कार्बन की मात्रा के बराबर है जो 875,000 औसत यूके पेट्रोल कार यात्रा द्वारा छोड़ा जा रहा है।" इसके साथ ही "यह एक बहुत लगता है, परन्तु  वैश्विक कार्बन बजट के संदर्भ में, यह बहुत महत्वहीन है।"यह वायुमंडल से कार्बन लेता है, लेकिन यह इस समय वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा में कोई गंभीर सेंध नहीं लगाएगा।"वहीं अंटार्कटिका में हरा रंग केवल छप नहीं है। शोधकर्ता अब लाल और नारंगी शैवाल पर इसी तरह के अध्ययन की योजना बना रहे हैं, फिलहाल यह अंतरिक्ष से नक्शे के लिए कठिन साबित हो रहा है।

क्या नए सुरक्षा कानून के खिलाफ हांगकांग में उठने वाली है आवाज ?

एम्बर को खोजने के लिए अलर्ट जारी, जानकारी मिलने पर यहां करें सूचित

OIC बैठक में पाक को झटका, मालदीव बोला- भारत में कोई 'इस्लामोफोबिया' नहीं