Chocolate Day : आज से सालों पहले तीखी हुआ करती थी चॉकलेट, जानिए इतिहास

Chocolate Day : आज से सालों पहले तीखी हुआ करती थी चॉकलेट, जानिए इतिहास

वैलेंडटाइन वीक के तीसरे दिन चॉकलेट डे होता है यानि 9 फरवरी को चॉकलेट डे मनाते हैं. चॉकलेट डे के दिन सभी कपल एक दुसरे को चॉकलेट देकर चॉकलेट डे सेलिब्रेट करते हैं. इसके अलावा दोस्त भी एक दूसरे को चॉकलेट देकर उन्हें विश करते हैं. आपको बता दें, चॉकलेट का इतिहास 4 हजार साल पुराना है. इसी सिलसिले में हम आपको बताने जा रहे हैं कि चॉकलेट का इतिहास जिसकों आप भी नहीं जानते होंगे.  

बता दें कि चॉकलेट बनाने के लिए कोको पेड़ का प्रयोग किया जाता है. कोको पेड़ अमेरिका में पाया जाता है. लेकिन अब 70 प्रतिशत कोको की उपज अफ्रीका में ही होती है. चॉकलेट की शुरुआत मैक्सिको और मध्य अमेरिका के लोगों ने किया था. इसके अलावा साल 1528 में जब स्पेन ने मैक्सिको को अपने कब्जे में लिया और जब राजा वापस स्पेन पहुंचे, वह अपने साथ कोको के बीच और चॉकलेट बनाना का समान साथ लिया हुआ था. इसी के बाद कुछ समय में ही लोगों को चॉकलेट काफी पसंद आईं जिसके बाद चॉकलेट काफी पॉपुलर हो गई.

आप जानते ही हैं चॉकलेट का स्वाद मीठा नहीं होता है बल्कि चॉकलेट कोको पाउडर का बना हुआ होता है जो कि स्वाद में तीखा होता है. इसके तीखे होने के पीछे वजह थी कि अमेरिकन लोग इसे बनाने के लिए कोको के बीजो को पीसकर उसमे कुछ मसाले व मिर्च मिलाते थे जिस वजह से इसकाल स्वाद तीखा हो जाता था. जिसके बाद कोको पाउडर में मीठा किया गया जिसके बाद चॉकलेट का स्वाद लोगों को पोसंद आने लगा. यानि पहले चॉकलेट का स्वाद मीठा नहीं बल्कि तीखा हुआ करता था. 

Chocolate Day : अपने खास लोगों को इन शायरी से करें चॉकलेट डे विश

यहां ऊंटनी के दूध को माना जाता है सफ़ेद सोना, इतनी है कीमत