भाई को बचाने में फंसे चिराग पासवान, खुद को खतरे में देख बोले- मैं पहले से बोल रहा था कि...

भाई को बचाने में फंसे चिराग पासवान, खुद को खतरे में देख बोले- मैं पहले से बोल रहा था कि...
Share:

पटना: रेप केस में अपराधी लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद प्रिंस राज पासवान के पश्चात् चचेरे भाई चिराग पासवान की भी समस्याएं बढ़ गई हैं। दरअसल, उन्हें भी दुष्कर्म मामले में अपराधी बनाया गया है। आरोप है कि चिराग पासवान को महिला के साथ रेप की खबर थी तथा उन्होंने सबूत मिटाने में प्रिंस राज का साथ दिया है। वही केस बढ़ता देख बुधवार को चिराग पासवान का बयान सामने आया है। 

उन्होंने मीडिया को बताया कि मैं पहले से ही बोल रहा हूं मुझे मामले की जानकारी थी। मैंने जनवरी में दोनों पक्षों की बात सुनी थी। मैं प्रथम शख्स था, जिसने यह राय दी थी कि इस मामले के विरुद्ध शिकायत दर्ज करवाई जाए। मैं कोई जांच एजेंसी नहीं हूं। मैं अभी भी इन्साफ के पक्ष में हूं। जो भी अपराधी हो उसे सजा प्राप्त हो। 

क्या है मामला? 
लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद तथा चिराग पासवान के चचेरे भाई प्रिंस राज पासवान के विरुद्ध दिल्ली के कनॉट प्लेस थाने में रेप मामले में शिकायत दर्ज कराई गई थी। FIR में चिराग पासवान का भी जिक्र है। खबर के मुताबिक, पीड़ित महिला ने तकरीबन तीन महीने पहले कनॉट प्लेस थाने में प्रिंस के विरुद्ध FIR दर्ज कराई थी मगर तब से अब तक मामले में शिकायत दर्ज नहीं हुई। अब कोर्ट के आदेश के पश्चात् कनॉट प्लेस थाने ने प्रिंस पासवान के विरुद्ध 9 सितंबर को शिकायत दर्ज की है। महिला ने FIR में आरोप लगाया है कि रेप के चलते उसका वीडियो भी बनाया गया था। उसे वीडियो वायरल करने की धमकी देकर मुँह बंद रखने के लिए बोला जा रहा था। उस पर पुलिस में FIR न करने के लिए दबाव बनाया जा रहा था।

6 वर्षीय बच्ची की दुष्कर्म के बाद हत्या, तेलंगाना के मंत्री बोले- आरोपी को एनकाउंटर में मारेंगे

बीजेपी और समाजवादी पार्टी ने एक दूसरे के चुनाव चिन्ह पर की टिप्पणी

गुजरात भाजपा में अंतरकलह, पूरा कैबिनेट बदलना चाहते हैं CM भूपेंद्र, नितिन पटेल और रुपाणी नाराज़

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -