भारतीय सीमा के करीब उड़ान भर रहे चीनी फाइटर जेट, भारत से मिल सकता है जवाब

Jun 02 2020 09:40 AM
भारतीय सीमा के करीब उड़ान भर रहे चीनी फाइटर जेट, भारत से मिल सकता है जवाब

लॉकडाउन और कोरोना संकट के बीच भारत और चीन के बीच लद्दाख को लेकर वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर तनाव बना हुआ है. एलएसी के समीप पूर्वी लद्दाख से 30-35 किलोमीटर दूर चीनी सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के लड़ाकू विमान उड़ान भर रहे हैं. भारत भी चीन की हर गतिविधि पर करीब से नजर बनाए हुए है. चीन के लड़ाकू विमान होटन और गरगुंसा ठिकानों से लगभग 100-150 किलोमीटर दूर तैनात हैं.

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत हुए सेल्फ क्वारंटीन, तीन कैबिनेट मंत्री भी शामिल

इस मामले को लेकर सूत्रों ने कहा कि चीन ने इस समय वहां तैनात लगभग 10-12 लड़ाकू विमानों का एक बेड़ा रखा है और वे भारतीय क्षेत्र के करीब उड़ान भी भर रहे हैं. भारत इन लड़ाकू विमान जे-11 और जे-7 की आवाजाही पर कड़ी नजर रख रहे हैं. ये लड़ाकू विमान होटन और गरगांसा में हवाई ठिकानों से उड़ान भर रहे हैं और लद्दाख क्षेत्र में हमारे क्षेत्र से 30-35 किलोमीटर दूर हैं.

उत्तराखंड में आज आठ नए संक्रमित मरीज मिले, कुल संख्या 929


आपकी जानकारी के लिए बता दे कि अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के अनुसार भारतीय क्षेत्रों से 10 किलोमीटर से अधिक दूरी पर हैं. भारत ने मई के पहले सप्ताह में अपने सुखोई-30 एमकेआइ से उड़ान भरी थी. होटन बेस पिछले कुछ समय से भारतीय एजेंसियों की निगरानी में है क्योंकि पाकिस्तानी वायुसेना भी वहां पीएलए वायुसेना के साथ हवाई अभ्यास कर रही है.सूत्रों ने बताया कि पिछले साल भी भारत ने छह पाकिस्तानी जेएफ-17 की आवाजाही पर बारीकी से निगरानी की थी. ये पाकिस्तान के कब्जे वाले गुलाम कश्मीर में लद्दाख के पश्चिमी हिस्से के सामने स्कार्दू एयरफील्ड से उड़ान भरते हुए होटन तक पहुचे थे, जहां उन्होंने शमीन-8 नामक एक अभ्यास में भाग लिया था. भारत भी, लद्दाख में पूरी तैनाती से डटा हुआ है और खुफिया एजेंसियों के साथ चीन की हर हरकत पर करीब से नजर बनाए हुए है.

क्या संविधान से हट जाएगा 'इंडिया' नाम ?

मौसम विभाग का अनुमान रहा सही, झमाझम हो रही बारिश

अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को लेकर उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कही यह बात