तेजी से LAC को खाली कर रहा चीन, दो दिन में हटाए 200 से अधिक टैंक

लेह: पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत-चीन के बीच बीते नौ महीने से जारी गतिरोध अब कम होने लगा है। दोनों देशों के मध्य इसके लिए एक अहम करार हुआ है। भारत और चीन के बीच पैंगोंग झील के उत्तरी एवं दक्षिणी किनारों पर सरहदों के पीछे हटने का समझौता हो गया और बुधवार की सुबह ही दोनों देशों के सैनिक पीछे हटाना आरंभ कर दिए। इस दौरान चीन ने एक बार फिर चौंकाया है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, समझौता वार्ता होने के बाद चीन ने केवल दो दिन में 200 से अधिक टैंक हटा लिए हैं।

बताया जा रहा है कि आने वाले 15 दिन में चीन पैंगोंग त्सो के इलाके को पूरी तरह खाली कर देगा। इसके बाद भारत सरकार अन्य इलाकों को खाली कराने पर जोर देगी। गुरुवार को उच्च सदन में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बताया था कि चीनी सेना फिंगर आठ से पीछे हटने के लिए राजी हो गई है। अब अधिकारियों का कहना है कि भारतीय और चीनी जवानों का प्रारंभिक विघटन पैंगोंग झील तक सीमित है और दोनों सेनाओं को अपनी असल तैनाती पर वापस आने में और दो सप्ताह का समय लग सकता है।

एक बार ये प्रक्रिया खत्म हो जाएगी तो 48 घंटों के भीतर एक कॉर्प्स कमांडर-स्तरीय बैठक होगी, जिसमें गतिरोध वाले अन्य स्थान जैसे हॉट स्प्रिंग्स, गोगरा और 900 वर्ग किमी डेपसांग मैदान पर बात की जाएगी। राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में कहा कि, 'पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के साथ कुछ अन्य बिंदुओं पर तैनाती और गश्त के बारे में अभी भी कुछ बकाया मुद्दे हैं। ये चीनी पक्ष के साथ आगे की चर्चा का फोकस होंगे।'

13 फरवरी को नहीं होगी संसद में राज्यसभा की बैठक: वेंकैया नायडू

शेरॉन पीकॉक ने कहा- "पूरी दुनिया को अपनी चपेट में ले लेगा..."

सन फार्मा एग्जिक्युटिव्स ने सेबी के साथ ' फंड डायवर्जन ' का निपटाया मामला

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -