पुलवामा हमला: चीन ने भरपूर डाले अड़ंगे, फिर भी एक हफ्ते बाद आ ही गया UNSC का बयान

न्यूयॉर्क: संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने पुलवामा में हुए आत्मघाती आतंकी हमले की एक सप्ताह बाद भले ही कड़े शब्दों में निंदा की हो, पर चीन ने इसे रोकने का पूरा प्रयास किया था। आधिकारिक सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया है कि आतंकवाद के उल्लेख को लेकर अकेले चीन कि खिलफर के कारण पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर 15 सदस्यीय संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) के बयान में एक हफ्ते की देरी हुई है। 

नहीं काम आया हाफिज के संगठन बैन करने का पैंतरा, ग्रे लिस्ट में ही रहेगा पाक

बताया जा रहा है कि जहां चीन पुलवामा में हुए आतंकी हमले पर यूएनएससी के बयान की विषयवस्तु को कमजोर करने की कोशिश कर रहा था, वहीं पाकिस्तान ने भी पूरा प्रयास किया था कि ये जारी ही न हो पाए। हालांकि इस दौरान अमेरिका ने अपनी पूरी जान भारत के समर्थन में लगा दी थी, जिससे इस पर परिषद के सभी मेम्बरों की सहमति मिल सके। 

पाकिस्तान दौरे पर गए थे सऊदी के शहजादे, उपहार में मिली सोने का पानी चढ़ी राइफल और...

आपको बता दें कि UNSC ने इस आतंकी हमले को जघन्य और कायराना कृत्य बताते हुए इसकी कड़ी निंदा की है। 15 देशों के इस संगठन में चीन का भी नाम है। सुरक्षा परिषद ने आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद का उल्लेख करते हुए कहा है कि ऐसे हमलों के आरोपियों को अदालत के कठघरे में लाकर कठोर सजा देनी चाहिए। इसे जहां पाकिस्तान के लिए बड़ा झटका, वहीं भारत की कूटनीतिक जीत के तौर पर देखा जा रहा है क्योंकि भारत की भाषा में ही UNSC ने आतंकवाद की कड़ी निंदा की है। 

खबरें और भी:-

 

हाफिज सईद के संगठन पर बैन, अंतर्राष्ट्रीय दबाव के कारण पाक की कार्यवाही या फिर ढकोसला

ह्यू जैकमैन ने किया इतना बड़ा कारनामा, गिनीज बुक में दर्ज हुआ नाम

शशि थरूर का ट्वीट, कारगिल युद्ध के समय तो पाक के विरुद्ध खेला था भारत फिर अब...

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -