अभी पूरी तरह से 4G 5G शुरू नहीं हुआ, 6G नेटवर्क जारी करने की तैयारी

अभी पूरी तरह से 4G 5G शुरू नहीं हुआ, 6G नेटवर्क जारी करने की तैयारी

यह बात तोह हम सब जानते है कि आज का जो दौर है वह 4g का दौर है, वही यह बात भी हम सभी को पता है कि जल्द ही लोग दुनिया ने अभी 5-जी की वायरलैस सेवाओं का आनंद उठाना कायदे से शुरू भी नहीं किया है, और 6-जी टैक्नोलॉजी पर भी जोरशोर से काम करने की हवा बहना शुरू हो गई है. प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में वर्चस्व की गहराती लड़ाई ही इसे हवा दे रहे है. वही चीन ने सरकारी तौर पर दो ही दिन पहले यह एलान किया है कि उसने दो टीमों का संगठन करके इस बारे में शोध और अध्ययन का काम जारी किया जा चुका है.

2018 से ही शुरू कर दिया था 6-जी पर काम

मिली जानकारी के अनुसार इन दो टीमों में एक टीम सरकारी विभाग की है जो 6-जी टैक्नोलॉजी को अमल में लाने के काम को देखा जायेगा. वही दूसरी टीम में विश्वविद्यालयों, वैज्ञानिक संस्थानों और कार्पोरेशनों के 37 विशेषज्ञ हैं जो सरकार के 6-जी संबंधी अहम निर्णयों के बारे में तकनीकी सुझाव देने का काम कर रहे है. हमे यह याद होना चाहिए कि चीन सरकार के उद्योग और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने 2018 में ही एक कार्यदल गठित करके 6-जी पर काम करना शुरू कर दिया जायेगा.

5-जी के सूरते हाल भी ठीक से पता नहीं, फिर भी...

मिली जानकारी के अनुसार यह अलग बात है कि 5-जी में डाटा स्थानांतरण की गति 4-जी के मुकाबले 10 गुना तेज होगी, लेकिन अभी तो यह भी ठीक से पता नहीं है कि 5-जी टैक्नोलॉजी का व्यापक प्रयोग शुरू होने के बाद आम उपभोक्ता की जिंदगी कैसे बदलने वाली है. कोरियाई, चीनी और नोकिया-एरिक्सन सरीखी यूरोप की बड़ी कंपनियों के बीच 5-जी को लेकर जबर्दस्त प्रतिद्वन्द्विता जारी हो चुकी है. इसी के साथ-साथ 6-जी को लेकर भी इन देशों की निजी कंपनियां और सरकारी संस्थाएं भी बहुत तेजी से शोध और विकास के क्षेत्र में जुट चुके है. वही सूत्रों के मुताबिक यह तब है जब 6-जी तो बहुत दूर की कौड़ी है और इसके मानकों को लेकर भी अभी तक कोई स्पष्टता नहीं होगी. सबको पता है कि 6-जी टैक्नोलॉजी से जुड़े उत्पाद बाजार में 2030 तक आने वाले नहीं हैं. फिर भी, चीन के इस सरकारी कदम के अलावा चीन की कम्पनी हुआवे भी इस रेस में उतरी हुई है जो 5-जी के क्षेत्र में मार्केट लीडर मानी जाएगी.

ग्राहकों के लिए बड़ा धमाका, जियो जल्द लॉन्च करेगा स्मार्ट टीवी

इस रिपोर्ट में हुए खुलासे के अनुसार पाकिस्तान है सबसे ख़राब देश

विषेशज्ञों का बयान, आसान नहीं फेसबुक की गलत ख़बरों को पहचान पाना