चीनी राष्ट्रपति के भारत दौरे से पहले कश्मीर पर बदले चीन के सुर, कही यह बात

नई दिल्लीः कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का पक्ष लेने वाला चीन अब अपने सुर बदल रहा है। अगले कुछ दिनों में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग भारत दौरे पर आने वाले हैं। चीन के रूख में बदलाव का कारण इसे माना जा रहा है। दरअसल चीन ने कश्मीर को लेकर यूएन में रखे अपने रुख से विपरीत बयान दिया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के चीनी राष्ट्रपति से मिलने पहुंचने के मौके पर मंगलवार को चीन ने कहा कि कश्मीर मुद्दे को बातचीत से सुलझाना चाहिए।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने इमरान-जिनपिंग की भेंट पर कहा, कश्मीर को लेकर चीन का रुख स्पष्ट है, इसे दोनों देशों को बातचीत से ही सुलझाना होगा। वहीं इससे पहले छह अक्तूबर को चीन ने बयान जारी कर अनुच्छेद 370 को खत्म करने और लद्दाख को अलग केंद्र शासित राज्य बनाने का विरोध जताया था। अब जबकि चीनी राष्ट्रपति की भारत यात्रा प्रस्तावित है चीन ने अपना नजरिया बदल लिया है। पाक पीएम इमरान खान दो दिन की यात्रा पर चीन पहुंचे हैं।

चीनी राजदूत सुन वेडॉन्ग ने दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को प्रभावित नहीं होने देने की वकालत की। चीनी राजदूत सुन वेडॉन्ग ने कहा कि दोनों देशों को अपने मतभेदों का हल क्षेत्रीय स्तर पर ही वार्ता के जरिए तलाशना चाहिए और संयुक्त रूप से क्षेत्र में शांति कायम रखने की दिशा में काम करना चाहिए।

राष्ट्रपति शी जिनपिंग को भारत दौरे पर शुक्रवार को पहुंचना है, मगर अभी तक दोनों ही देशों की तरफ से उनके आगमन की औपचारिक घोषणा नहीं की गई है। इसे कश्मीर मुद्दे पर दोनाें पक्षों के बीच असहजता का संकेत माना जा रहा है। संभावना है कि चीन बुधवार को जिनपिंग के 24 घंटे लंबे भारतीय दौरे की घोषणा कर सकता है। बता दें कि चीन पाकिस्तान एक-दूसरे को सदाबहार मित्र मानते हैं। 

भारत-बांग्लादेश के बीच समझौता से पूर्वोत्तर राज्यों को होगा यह फायदा

हिमाचल प्रदेश: बर्फबारी में फंसे हुए थे 1200 से अधिक लोग, पुलिस ने किया रेस्क्यू

भाजपा नेता उमा भारती के भतीजे राहुल की कार से हुए भीषण सड़क हादसा, तीन लोगों की मौत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -