तनाव के चलते फिजी में फिर भिड़े चीन और ताइवान

तनाव के चलते फिजी में फिर भिड़े चीन और ताइवान

बीजिंग: चीन और ताइवान की आपसी तनाव दोनों देशों की सीमाओं के बाहर तक आ चुका है। फिजी में हाल ही में आयोजित ताइवान के राष्ट्रीय दिवस समारोह को लेकर चीन के राजनयिक और ताइवान सरकार के कार्यकर्त्ता बढ़ते ही जा रहे है। टकराव इतना जबर्दस्त था कि ताइवान के कर्मचारी के सिर में चोट आ गई और उसे हॉस्पिटल में भर्ती कराना पड़ा, चीन का एक राजनयिक भी जख्मी हुआ है। दोनों देशों ने 8 अक्टूबर को हुए इस टकराव की पुष्टि कर चुके है। दोनों ने एक-दूसरे को हिंसा के लिए जिम्मेदार बताया जा रहा है।

ताइवान के विदेश विभाग की प्रवक्ता जोआन ओऊ ने कहा है कि टकराव तब हुआ जब ताइवान के राष्ट्रीय दिवस के आयोजन में आए अतिथियों के फोटो ले रहे चीन के राजनयिकों को रोका गया। इस केस में फिजी स्थित चीन के दूतावास के सभ्य आचरण के मानदंडों के उल्लंघन की ताइवान ने कड़ी आलोचना कर रहे है। प्रवक्ता ने बोला कि इस मामले में फिजी सरकार से औपचारिक विरोध किया है। जंहा इस बात का पता चला है कि फिजी स्थित चीन के दूतावास ने ताइवान के आरोपों को तथ्यों से परे बताया है। कहा है कि फिजी के ताइपे व्यापार कार्यालय के बाहर जब चीनी दूतावास के कर्मचारी अपना कार्य कर रहे थे, तब उन पर हमला किया गया। ये कर्मचारी समारोह स्थल के बाहर सार्वजनिक स्थान पर खड़े थे, तभी उनके साथ मारपीट की गई। इसमें एक चीनी राजनयिक घायल भी हुआ है।

मिली जानकारी के अनुसार सोमवार को चीन के विदेश विभाग के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने समारोह में रखे गए केक और लगाए गए झंडों की आलोचना की। बोला कि यह चीन की वन चाइना पॉलिसी का उल्लंघन है। ऐसा करने का ताइवान को कोई अधिकार नहीं है। इस सिलसिले में फिजी सरकार से विरोध जताया गया है। यह समारोह टू चाइना दिखाने का कोशिश किया था।

कोरोना वैक्सीन की रेस में शामिल हुआ इजराइल

अमेरिकी श्रम विभाग पर लगाया गया आरोप, जानिए क्यों ?

आयरलैंड कोरोना को बढ़ता देख फिर लगा लॉक डाउन