मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब का पहला बयान, न खाऊंगा और ना खाने दूंगा

अगरतला : त्रिपुरा में पहली बार भारतीय जनता पार्टी की सरकार में राज्य के मुख्यमंत्री के तौर पर भाजपा अध्यक्ष बिप्लब कुमार देब ने कल 10 मार्च को पद की शपथ ली. मुख्यमंत्री के तौर बिप्लब कुमार ने अपने पहले बयान में कहा कि अब राज्य में यूनियन के लोग हफ्ता नहीं उठा सकेंगे. उन्होंने आगे कहा कि मैं यूनियन को तोड़ने के लिए सीएम नहीं बना हूं, लेकिन राज्य में यूनियन के नाम पर जो गुंडागर्दी होती है और कोई इंडस्ट्री को रोकता है तो मैं ऐसा नहीं होने दूंगा. हमारी सरकार विकास का विरोध कतई बर्दाश्त नहीं करेगी. मेरा मानना है कि यूनियन इसलिए जरूरी होती है कि किसी कर्मचारी के साथ कोई अन्याय न होने पाए. लेकिन अगर यूनियन हफ्ता वसूलेगी या फिर पार्टी के लिए फंड जुटाएगी तो मैं यह नहीं होने दूंगा.

मैं राज्य में संविधान जो कहता है, वही लागू करुंगा. पिछली सरकार के करप्शन की जांच करवाए जाने के सवाल पर त्रिपुरा के सीएम बिप्लब कुमार देब ने कहा कि हमारी सरकार किसी भी करप्शन करने वाले को छोड़ेगी नहीं. उन्होंने कहा कि मैंने अपने कैबिनेट के मंत्रियों से भी कहा कि मेरी सरकार का मंत्र भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ही तरह है- न खाऊंगा और ना खाने दूंगा. हम राज्य में वैसा ही शासन चलाएंगे जैसा पीएम मोदी चाहते हैं.

गौरतलब है कि हाल ही में हुए विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए त्रिपुरा जीत के साथ सूबे में भगवा लहराया है. 

त्रिपुरा: शून्य से शिखर के पीछे बस एक नाम

बिप्लब देब बने त्रिपुरा के नए मुख्यमंत्री

त्रिपुरा की युवा सरकार को विपक्ष के अनुभव की दरकार- पीएम मोदी

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -