छत्तीसगढ़ में भूख की वजह से आदिवासी ने दम तोडा

रायपुर: छत्तीसगढ़ में विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भूख के कारण से आदिम जनजाति के एक सख्स ने दम तोड़ दिया है। कांग्रेस का कहना है की मरने वाले व्यक्ति के पास न तो राशन कार्ड था और न ही सरकार की ओर से गरीबों को दी जाने वाली स्वास्थ्य कार्ड जैसी दूसरी सुविधाएं। मृतक का नाम 60 वर्षीय लंबू राम है जो की वह पहाड़ी इलाको की कोरवा जनजाति का था, बता दे की इस जाती को संरक्षित जनजाति का दर्जा प्राप्त है। साथ ही आपको यह जानकारी भी दे की संरक्षित जनजातियों को भारत के राष्ट्रपति से सीधा संरक्षण प्राप्त होता है।

दिल्ली कांग्रेस मुख्यालय में प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष भूपेश बघेल और नेता प्रतिपक्ष टीएस सिंहदेव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस यह आरोप लगाया कि प्रदेश की बीजेपी सरकार की नीतियों के कारण से लंबू राम को भूख की वजह से जान से हाथ धोना पड़ा। साथ ही  उन्होंने यह भी कहा कि वे लंबू राम के परिवार के साथ राष्ट्रपति से मुलाकात करेंगे और भूख से मौत का मुद्दा उठाएंगे। हालाँकि उन्होंने जानकारी दी की अभी राष्ट्रपति से मिलने का समय मांगा है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -