लॉकडाउन में एक और राज्य ने केंद्र पर लगाया ​नजरअंदाज करने का आरोप

कोरोना संक्रमण के बीच छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में केंद्र सरकार पर भेदभाव करने का आरोप लगाया है. इससे पहले पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी भी केंद्र सरकार पर भेदभाव का आरोप लगा चुकी हैं.

लॉकडाउन को आगे बढ़ाने को लेकर क्या सोचती है योगी सरकार ?

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को पांचवीं बार राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग की थी. इस दौरान ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर भेदभाव का आरोप लगाया था उन्होंने कहा था कि इस मुश्किल घड़ी में किसी भी दल को रजनीति नहीं करनी चाहिए. उन्होंने केंद्र सरकार से संघीय ढांचा बरकरार रखने की अपील की थी. उन्होंने हाल में प्रवासी मजदूरों को लेकर गृह मंत्री अमित शाह की चिट्ठी को लेकर केंद्र सरकार को निशाने पर लिया था. उन्होंने कहा कि बंगाल को लिखी केंद्र की चिट्ठी पहले ही लीक हो जाती है. उन्होंने कहा कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में एक राज्य के तौर पर हम बेहतर काम कर रहे हैं और ऐसे वक्त में केंद्र को राजनीति नहीं करनी चाहिए. केंद्र को समझना चाहिए कि बंगाल कई अंतरराष्ट्रीय सीमाओं और अन्य राज्यों से घिरे हुए हैं और इसका सामना करना चुनौतीपूर्ण है.

आखिर क्यों कार्ति चिदंबरम की याचिका हो गई खारिज ?

इसके अलावा मीटिंग में ममता ने केंद्र पर सवाल उठाते हुए कहा कि हर समय बंगाल की आलोचना क्यों की जा रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि हम लोगों से कोई सलाह मशविरा नहीं किया जाता है. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हमें टीम इंडिया की तरह काम करना चाहिए. इसके अलावा उन्होंने पीएम मोदी से चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन खोलने पर भी जोर दिया है.

कैलिफोर्निया के विशेष चुनाव में रिपब्लिकन करेगा नेतृत्व

सीएम चंद्रशेखर राव का बड़ा फैसला, ​खेती करने के लिए सरकारी सुझाव माने किसान

बाहुबली नेता पप्पू यादव पर मंडरा रहे संकट के बादल, जाने क्या है मामला

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -