इस गाँव में पांच दिन पहले ही खेल ली जाती है होली, जिसके पीछे हैं पारम्परिक मान्यता

Mar 07 2020 05:26 PM
इस गाँव में पांच दिन पहले ही खेल ली जाती है होली, जिसके पीछे हैं पारम्परिक मान्यता

कोरिया:  पूरे देश में जहां हर तीज-त्योहार का एक दिन निर्धारित होता है. इसी के हिसाब से लोग पर्व की खुशियां मनाते हैं. होली का भी दिन निर्धारित है. इस बार होली 10 मार्च यानी मंगलवार को आ रही है. जहां इस दिन होली को पूरा देश धूमधाम से मना रहा होगा. वहीं एक ऐसा गांव है जहां इस दिन एक पूरे गांव के लोग अपने-अपने कामों में मशगूल रहेंगे. ये लोग होली पर रंग-गुलाल नहीं खेलेंगे न ही किसी प्रकार का उत्सव मनाएंगे.

यह गांव धान का कटोरा कहे जाने वाले छत्तीसगढ़ के कोरिया जिले के अंतर्गत आता है. गांव का नाम अमरपुर है. दरअसल, इस गांव के लोगों की मान्यता है कि होली मनाने से गांव में अछूत लग जाएगा. जिससे लोग बीमार होने लगते हैं. इसलिए ये लोग होली के दिन इस पर्व को नहीं मनाते हैं. बल्कि होली से ऐन पांच दिन पहले होली खेल लेते हैं. इसके पीछे गांव वाले किसी खास मान्यता की बात कहते हैं. उनका कहना है  उनके पूर्वजों ने इस प्रथा को आरंभ किया था. जिसे वे आज तक अपनाते चले आ रहे हैं. 

उनके पूर्वजों ने बताया था कि एक ऐसा समय आया था कि इस गांव में मवेशियों के मरने का दौर शुरू हो गया था. गांव में कोई महामारी सी फ़ैल गई थी. इससे मवेशियों और लोग बीमार पड़ने लगे. कई लोगों की मौत हो गई. उस समय इस गांव में एक बैगा आया. उसने गांव के लोगों को बताया कि सभी गांव वाले हर पर्व को पांच दिन पहले मनाना आरंभ कर दें. ऐसा करने से मौतों का सिलसिला थम जाएगा. लोग उस बैगा की बात मानकर हर पर्व पांच दिन पहले मनाने लगे. जिसके बाद महामारी की कहर कम होता चला गया. इसीलिए इस वर्ष भी होली का त्योहार पांच दिन पहले मना लिया गया है. पूरे गांव ने धूमधाम से शुक्रवार को होली का उत्सव मनाया.

होली पर हो सकता है भाजपा की राष्ट्रीय टीम का गठन, नए चेहरों को मौका दे सकते हैं नड्डा

जम्मू कश्मीर में ताबड़तोड़ छापेमारी, GST से जुड़ा बड़ा घपला आया सामने

प्रकाश जावड़ेकर ने दिया बड़ा बयान, कहा-मोदी सरकार ने सुरक्षा पर विशेष ध्यान दिया..