बेटे की स्कूल फीस भरने के लिए मजबूर पिता ने मांगी किडनी बेचने की अनुमति, पीएम को लिखा पत्र

May 26 2020 04:52 PM
बेटे की स्कूल फीस भरने के लिए मजबूर पिता ने मांगी किडनी बेचने की अनुमति, पीएम को लिखा पत्र

चंडीगढ़: देशभर के प्राइवेट स्कूलों द्वारा फीस बढ़ौतरी को लेकर अभिभावकों में आक्रोश बहुत अधिक बढ़ गया है। इसी क्रम में चंडीगढ़ सैक्टर-52 के रहने वाले अतुल वोहरा ने पी.एम. को पत्र लिखकर किडनी बेचने की अनुमति मांगी है ताकि वे अपने बच्चों की फीस भर सकें। चंडीगढ़ प्रशासन व शिक्षा विभाग की तरफ अभिभावकों को न्याय दिलवाने के लिए कुछ नहीं किया जा रहा है।

पत्र में सैक्टर-52 के रहने वाले अतुल वोहरा ने लिखा है कि उनका बेटा सैक्टर-44 के एक निजी स्कूल में पढ़ता है। लॉकडाऊन के कारण उनकी नौकरी छूट गई है। इस वजह से उनकी सैलरी भी बंद हो चुकी है, जिससे घर चलाना मुश्किल हो गया है। वहीं, स्कूल द्वारा पूरी फीस के लिए दबाव बनाया जा रहा है, जो कि 32000 रुपए है। उन्होंने लिखा कि घर का किराया व किश्तें देनी मुश्किल हो गई हैं। अतुल के पत्र के अनुसार, 'मेरे परिवार में पांच सदस्य हैं। मैं अपनी माता की पैंशन पर गुजारा कर रहा हूं। वहीं, परिवार का अदालत में एक केस चल रहा है और उस मुक़दमे में वकील की फीस देने तक के पैसे नहीं हैं। वोहरा ने लिखा कि कानून में बदलाव किया जाए और किडनी बेचने की कानूनी तौर पर अनुमति दी जाए ताकि वे पैसा जुटा कर के फीस जमा करवा सकें।

वोहरा ने अपने पत्र में लिखा कि निजी स्कूल फीस को लेकर मनमानी कर रहा है। विभाग द्वारा स्कूलों के खिलाफ कोई का कार्रवाई नहीं की जा रही है। मिनिस्ट्री ऑफ होम अफेयर्स के आदेशों के बाद जो फीस रैगुलेटरी अथॉरिटी गठित की गई थी, उसने भी कोई काम नहीं किया।

जानिए क्या है जनधन खाते को खुलवाने की आयु सीमा

Gold Price : सोने की चमक पड़ी फीकी, पहले के मुकाबले गिरे दाम

क्या भारत से युद्ध करने की तैयारी कर रहा चीन ?