चैन से दो रोटी भी नहीं खाने दोगे

प्पू बहुत गरीब था। वह एक सर्कस में नौकरी करने लगा।
उसने ऐलान किया कि वह अपने करतब में 100 रोटियां खाकर दिखाएगा।
सुबह के करतब में लोग आए।
पप्पू ने रोटियां खानी शुरू कीं...10... 20... 50... और देखते ही देखते उसने 100 रोटियां खा लीं।
लोग हैरान होकर तालियां बजाने लगे।
फिर दोपहर के करतब में भीड़ जुटी और उसने 100 रोटियां फिर खा लीं।
ऐसे ही रात के करतब का समय होने वाला था, पर पप्पू नजर नहीं आ रहा था।
मैनेजर परेशान होकर उसके घर गया, तो देखा कि पप्पू रोटियां खा रहा है।
वह हैरान होकर सोचने लगा, यह आदमी है या राक्षस!
मैनेजर गुस्से में बोला: करतब का समय हो गया है और तुम यहां हो!
पप्पू बोला: दिन भर काम करके थक गया हूं। अब चैन से दो रोटी भी नहीं खाने दोगे...!!!

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -