मुख्यमंत्री विजयन का बड़ा बयान, कहा- ''निश्चित' लोग जानबूझकर अफवाह फैला रहे हैं''

मुख्यमंत्री विजयन का बड़ा बयान, कहा- ''निश्चित' लोग जानबूझकर अफवाह फैला रहे हैं''

केरल राज्य में बढ़ते मामलों के साथ राजनीतिक लड़ाई और भी तेज होती जा रही है। हाल ही में केरल के सीएम पिनाराई विजयन ने कैबिनेट सहयोगी केटी जलील पर हुए हमले की निंदा की थी जिसके दौरान एक कार ने कोल्लम में मंत्री के सरकारी वाहन को ब्लॉक करने की कोशिश की थी। राज्य भर में प्रदर्शनकारियों को शुक्रवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा पूछताछ के लिए तलब किए जाने के बाद मंत्री जलील की वापसी जरूरी हो गई है। सोमवार को एक और दिन के विरोध प्रदर्शन के बाद सीएम पिनाराई ने मीडिया को जानकारी दी कि जलील ने कोई गलत काम नहीं किया है और ब्यूरो अपने सामान्य तरीके से काम कर रहे हैं।

यह मुद्दा कई हफ्ते पहले शुरू हुआ था जब कुख्यात स्वर्ण तस्करी मामले के सिलसिले में इस्लामिक पवित्र पुस्तक कुरान की खेप की खबर सामने आई थी। मंत्री जलील को संयुक्त अरब अमीरात के वाणिज्य दूतावास से पवित्र पुस्तक की प्रतियां मिली थीं। सीएम पिनारी ने सवालों के जवाब में कहा कि "पूछताछ कुरान की खेप के संबंध में है। यह जांच एजेंसी को भेजी गई शिकायत के कारण आया है। ऐसी शिकायतों की जांच करना और सच्चाई का पता लगाना एजेंसी की जिम्मेदारी है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ' वाणिज्य दूतावास से आपको मिलने वाली धार्मिक पुस्तकों को प्रसारित करना कभी अपराध नहीं है और जलील केवल वही कर रहे हैं जो इन परिस्थितियों में सामान्य है। उन्होंने जानबूझकर अफवाहें फैलाने के ' कुछ लोगों ' को दोषी ठहराया, केवल सरकार के बारे में भ्रामक बनाने के लिए। सीएम पिनाराई ने मंत्री ईपी जयराजन की पत्नी इंदिरा पर कुछ मीडिया द्वारा एक बैंक में जाने और लॉकर खोलने के लिए संगरोध तोड़ने के आरोपों को बढ़ावा दिया। हालांकि इंदिरा ने खुद पहले एक वीडियो जारी कर यह स्पष्ट किया था कि वह संगरोध में नहीं हैं और अपने पोते के लिए उपहार खरीदने के लिए लॉकर खोलना कोई अपराध नहीं था, सीएम पिनाराई ने आगे कहा कि इस तरह की अफवाहें जानबूझकर फैलाई गईं।

विपक्षियों ने दिया स्पीकर के चैंबर के बाहर धरना, फिर सदन से किया वाकआउट

इजराइल और अमेरिका में टूटा कोरोना का कहर, हर दिन हो रहे इतने परिक्षण

पाकिस्तान में नहीं थम रहे बलात्कार, इमरान बोले- दोषियों को सरेआम दी जाए फांसी