लोकसभा में पेश हुआ ट्रेड यूनियन संशोधन विधेयक, वामपंथी दलों ने जताया विरोध

लोकसभा में पेश हुआ ट्रेड यूनियन संशोधन विधेयक, वामपंथी दलों ने जताया विरोध

नई दिल्ली: सरकार ने मंगलवार को लोकसभा में वामपंथी दलों के कड़े विरोध के बीच ट्रेड यूनियन संशोधन विधेयक 2019 प्रस्तुत कर दिया है. जिसमें 1926 के कानून में संशोधन करने का प्रावधान मौजूद है. केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष कुमार गंगवार ने आज व्यवसाय संघ (संशोधन) विधेयक पेश किया, जिसमें नीति निर्माण में श्रमिक संगठनों की साझेदारी के लिए कानूनी खाका बनाने का प्रावधान उपलब्ध है. 

सवर्ण आरक्षण मामले पर मोदी सरकार के समर्थन में आई मायावती, कही बड़ी बात

देश में विभिन्न केंद्रीय श्रमिक संगठनों की दो दिवसीय राष्ट्रव्यापी हड़ताल मंगलवार को शुरू होने के बीच कर्मचारियों से संबंधित विधेयक प्रस्तुत किए जाने पर वामपंथी दलों के सदस्यों ने विरोध जताया है. आरएसपी के एन के प्रेमचंद्रन ने विधेयक प्रस्तुत होने पर नाराजगी व्यक्त करते   हुए सदन के कुछ नियमों और संविधान के कुछ अनुच्छेदों कि दुहाई दी. वहीं माकपा के ए संपत ने कहा है कि सदस्यों को आज सुबह ही इस विधेयक की प्रति प्राप्त हुई है.

बेबीसिटर के पास जिन्दा बच्चा छोड़कर गई माँ, जब वापिस मिला तो मृत था नवजात

उन्होंने कहा कि इससे पहले कामकाज की सूची में इसका कोई जिक्र नहीं किया गया है. उन्होंने कहा है कि जब लाखों लोग सरकार की श्रमिक विरोधी नीतियों के विरोध में हड़ताल कर रहे हैं, ऐसे में इस तरह का विधेयक संसद में नहीं लाया जाना चाहिए. उन्होंने आरोप लगाया कि विधेयक संविधान के खिलाफ है. माकपा के एम बी राजेश और कांग्रेस के शशि थरूर ने भी विधेयक का विरोध किया. थरूर ने कहा कि सरकार को बिना किसी पूर्व सूचना के इतनी जल्दबाजी में विधेयक प्रस्तुत करने के लिए ठोस कारण बताना चाहिए.

खबरें और भी:-

 

राफेल मामले पर राहुल गाँधी ने फिर लगाए आरोप, कहा झूठ पर झूठ बोल रही रक्षामंत्री

अयोध्या विवाद पर मणिशंकर का विवादित सवाल, क्या सबूत है कि यहीं पैदा हुए थे राम ?

शरीफ की सजा निलंबित करने की याचिका अनिश्चितकाल तक के लिए स्थगित