केंद्र सरकार की रडार पर अखिलेश यादव, अब छीन सकती है ये चीज़

नई दिल्ली : केंद्रीय गृह मंत्रालय उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव से जेड प्लस की सुरक्षा व्यवस्था वापस ले सकती है। अखिलेश को वीआईपी सुरक्षा 2012 में यूपीए सरकार के दौरान मिली थी। अभी अखिलेश की सुरक्षा में अत्याधुनिक हथियारों से लैस एनएसजी दस्ते के करीब 22 कमांडो तैनात हैं। सूत्रों के अनुसार ऐसे कम से कम दो दर्जन अन्य वीआईपी की सुरक्षा भी या तो वापस ली जाएगी या उसमें कटौती की जाएगी।

इस संबंध में जल्द ही आधिकारिक आदेश पारित किया जाएगा। अधिकारियों ने सोमवार को कहा कि गृह मंत्रालय ने केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल के तहत दी जाने वाली वीआईपी सुरक्षा की व्यापक समीक्षा के बाद अखिलेश यादव को मिली एनएसजी सुरक्षा वापस लेने का फैसला किया है। फिलहाल यह साफ नहीं हो सका कि अखिलेश की केंद्रीय सुरक्षा में कटौती की जाएगी या यह पूरी तरह वापस ले ली जाएगी।

हालांकि सपा के वरिष्ठ नेता मुलायम सिंह यादव को मिली एनएसजी ‘ब्लैक कैट’ सुरक्षा जारी रहेगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने खतरे को देखते हुए केंद्र और राज्य (उत्तर प्रदेश) की खुफिया एजेंसियों की रिपोर्ट के आधार यह फैसला लिया है। आतंक रोधी बल (एनएसजी) अभी 13 विशिष्ट नेताओं की सुरक्षा में तैनात है। इनमें रक्षामंत्री राजनाथ सिंह, यूपी की पूर्व सीएम मायावती, यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ, असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल, आंध्र प्रदेश के पूर्व सीएम चंद्रबाबू नायडू और जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला भी शामिल हैं।

राहुल गाँधी के बचाव में उतरे गहलोत, कहा- वो पहले भी पार्टी के कप्तान थे और आगे भी रहेंगे

चंद्रयान-2: ISRO की कामयाबी पर NASA ने थपथपाई खुद की पीठ, सोशल मीडिया यूज़र्स ने लगाई क्लास

अपने पुश्तैनी गाँव के लिए मसीहा बने तेलंगाना सीएम, किया बड़ा ऐलान

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -