'कराहते हुए पानी मांग रहे थे', रुंह कंपा देगी CDS के हेलिकॉप्टर क्रैश की कहानी

तमिलनाडु के नीलगिरी की पहाड़ियों में स्थित पश्चिमी घाट के गांव में अचानक भारतीय वायुसेना का हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। बीते बुधवार को दोपहर के समय भी वहां धुंध छायी हुयी थी और इसी के चलते वहां जब भारतीय वायुसेना का हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हुआ तो लोग कुछ समझ नहीं पाए कि वहां क्या हो रहा है. कुछ ही समय बाद जब स्थानीय लोग दुर्घटनास्थल पर पहुंचे तो देखा कि यहाँ भारतीय वायुसेना का हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। उसमे भारत के पहले प्रमुख रक्षा अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और हेलीकॉप्टर में सवार 11 अन्य लोगों की मृत्यु हो गई। आप सभी को बता दें कि लोग दुर्घटनास्थल के बहुत नजदीक नहीं जा पाए क्योंकि आग की लपटें काफी तेज थीं।

एक अन्य ग्रामीण और मौके पर पहुंचने वाले पहले लोगों में से एक शिवकुमार थे। हाल ही में उन्होंने बताया कि, 'जलते हुए हेलिकॉप्टर में 11 लोग थे, जबकि तीन कुछ मीटर की दूरी पर पाए गए, हेलिकॉप्टर क्रैश होने के बाद वह शायद छिटक कर दूर गिरे होंगे या फिर जान बचाने के लिए भागे होंगे। उनके शरीर पर गंभीर चोटें थीं। घायलों में से एक कराह रहा था। दबी हुई आवाज में उसने हमसे पानी मांगा।' इसी के साथ प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि 'बचाव दल को कठिनाइओं का सामना करना पड़ा। आग बुझाने के लिए दमकल इंजन को ले जाने के लिए कोई रास्ता नहीं था। हमें पास की नदी और घरों से बर्तनों में पानी लाना पड़ा और आग में डालना पड़ा। ऑपरेशन बहुत कठिन था, शवों को निकालने के लिए हमें हेलिकॉप्टर के दांतेदार टुकड़ों को खोलना पड़ा। बहुत मुश्किल से लोगों को बाहर निकाला जा सका।' वहीं दूसरी तरफ फायरमैन सी दंडपाणि ने कहा, 'चूंकि एंबुलेंस मौके पर नहीं पहुंच सकीं, इसलिए उन्हें घाट से घायलों को ले जाने के लिए निवासियों से चादरें मिलीं।'

इस बारे में प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि 'बड़ी तेज आवाज आई, आग की लपटें काफी तेज थीं जिसमें हेलीकॉप्टर नष्ट हो गया, इस पर सवार लोगों की मौत हो गई और बड़े-बड़े वृक्ष राख में तब्दील हो गए।' वहीं दूसरी तरफ चेन्नई में पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने ‘पीटीआई' को बताया, 'हेलीकॉप्टर जंगली क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त हुआ, जो एक चाय बागान के काफी नजदीक है। इस क्षेत्र तक जाने का मुख्य मार्ग चाय बागान से होकर जाता है। दुर्घटना के तुरंत बाद स्थानीय लोगों और मजदूरों ने देखा कि क्या हुआ।'' उन्होंने कहा, ‘‘रक्षा अधिकारी दुर्घटना के बारे में बताएंगे।'

‘फेसबुक’ ने भारत में खोला एशिया का सबसे बड़ा ऑफिस, जानिए कहाँ?

रोहिणी कोर्ट के रूम नंबर 102 ब्लास्ट के बाद मचा हड़कंप!

फिलीपीन सरकार ने 13 दिसंबर से फ्रांस से यात्रा पर रोक लगाई

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -