फिर से पद मुक्त हुए अलोक वर्मा, अब सीबीआई दर्ज कर सकती है मामला

Jan 11 2019 09:58 AM
फिर से पद मुक्त हुए अलोक वर्मा, अब सीबीआई दर्ज कर सकती है मामला

नई दिल्ली: सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा को कार्यभार संभाले हुए 36 घंटे भी नहीं हुए थे, कि सेलेक्शन कमेटी ने उन्हें निदेशक पद से वापिस हटा दिया. मंगलवार को शीर्ष अदालत के फैसले के बाद ही इस बार के कयास लगाए जा रहे थे कि आलोक वर्मा की छुट्टी होने वाली है. किन्तु बताया जा रहा है कि 36 घंटे के अंदर सेलेक्शन कमेटी के माध्यम से हटाए जाने के लिए आलोक वर्मा खुद ही जिम्मेदार हैं. सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा ने 77 दिन के अंतराल के बाद बुधवार को अपना कार्यभार संभाला था. 

जीएसटी काउंसिल की बैठक जारी है, कई अहम मुद्दों पर चर्चा

उल्लेखनीय है कि इससे पहले केंद्र सरकार ने 23 अक्टूबर 2018 को देर रात आदेश जारी करते हुए वर्मा के अधिकार वापस लेकर उन्हें जबरन अवकाश पर भेज दिया था. इस कदम की व्यापक स्तर पर कड़ी आलोचना की गई थी. जिसके बाद अब पिछले 36 घंटे के घटनाक्रम के बाद सीबीआई के अंदर काफी हलचल मच गई है. सुप्रीम कोर्ट का फैसले आने के बाद आलोक वर्मा के नजदीकी अधिकारियों ने सीबीआई के मुख्य कार्यालय आना शुरू कर दिया था. 

25 हजार रु वेतन, National oceanography ने निकाली वैकेंसी

इसके बाद आईबी ने सरकार को रिपोर्ट सौंपी थी कि आलोक वर्मा बदले की भावना से काम करना आरम्भ कर दिया है. मंगलवार को जानबूझ कर सीबीआई दफ्तर नहीं जाना अलोक वर्मा का ही कदम था. मंगलवार शाम को राकेश अस्थाना मामले की जांच करने वाले अधिकारी को अंडमान से दिल्ली बुला लिया गया. अगले दिन ही वर्मा ने चार्ज हाथ में लेते ही बस्सी को दोबारा से सीबीआई में वापसी करा लिया.

खबरें और भी:-

आज शेयर बाजार ने की सुस्त शुरुआत

आज डॉलर के मुकाबले रुपये की हुई स्थिर शुरुआत

बजट सत्र : एक फरवरी को पेश हो सकता है अंतरिम बजट