सिर्फ जंग लगे लोहे से ही नहीं, इन कारणों से भी होता हो टिटनस

सिर्फ जंग लगे लोहे से ही नहीं, इन कारणों से भी होता हो टिटनस

कई  बार बच्चों के खेलने कूदने पर उन्हें चोट भी लग जाती है. ऐसे में जब बच्चों को लोहे की लगती है तो सबसे पहले आप उसे टेटनस का इंजेक्शन लगवाते हैं. टेटनस का इंजेक्शन लगवाना जरूरी भी है, क्योंकि जंग लगे लोहे से कटना-छिलना जानलेवा भी साबित हो सकता है. जंग लगे लोहे से लग्न यानि आपको इन्फेक्शन हो सकता है और आपके लिए घातक भी हो सकता है. जंग लगे लोहे में बैक्टीरिया अधिक होते हैं, जो आपकी सेहत के लिए खतरनाक हो सकते हैं. बच्चे हों या बड़े, जब भी लोहे से कटे तो सबसे पहले टेटनस का इंजेक्शन जरूर लगवाएं. पर आपको बता दें कि कई ऐसी चीजें हैं, जो (Tetanus causes) टेटनस इंफेक्शन (Tetanus infection) के खतरे को बढ़ाती हैं. जानते हैं उनके बारे में. 

1 आपने देखा होगा कि जब कोई महिला प्रेग्नेंट होती है, तो उस दौरान या फिर डिलीवरी के बाद मां और बच्चे दोनों को ही टेटनस का इंजेक्शन सबसे पहले लगाया जाता है. इन दिनों जच्चा-बच्चा दोनों की ही इम्युनिटी काफी कमजोर होती है. ऐसे में इनमें टेटनस इंफक्शन होने का खतरा अधिक रहता है.

2 इम्युनिटी सिस्टम को मजबूत रखना जरूरी है, ताकि आप किसी भी रोग के शिकार होने से बचे रहें. इम्युनिटी सिस्टम कमजोर होने से इंफेक्शन होने का खतरा बढ़ जाता है. ऐसे में जरूरी है कि बचपन से ही बच्चों को इंफेक्शन से बचाने के लिए पांच साल तक बूस्टर खुराक का डोज दिलवाना चाहिए.

3 अक्सर लोग लकड़ी से चोट लगने या फिर कटने-छिलने को नजरअंदाज कर देते हैं. क्या आप जानते हैं कि लकड़ी में भी खतरनाक बैक्टीरिया होते हैं, खासकर पुरानी और गीली लकड़ी में. इनसे बैक्टीरिया के फैलने का खतरा अधिक होता है.

पेट्स के काटने पर रहें सतर्क
आज पेट्स जैसे कुत्ता, बिल्ली, खरगोश, गाय, भैंस, बकरी आदि अधिक पालते हैं. ये पालतू जानवर फर्श पर जमी धूल,  गीली लकड़ी या जंग लगे लोहे के संपर्क में आते रहते हैं. जब ये जानवर आपको काट लेते हैं या इनसे आपको चोट लग जाती है, तो भी आपको टेटनस का इंफेक्शन हो सकता है.

खासकर, कुत्ते के काटने को बिल्कुल भी नजरअंदाज ना करें और तुरंत डॉक्टर से मिलें, फिर चाहे उसके नाखूनों या दांतों से हल्की सी खरोच ही क्यों ना लगी हो.

धूल-मिट्टी से भी होता है टेटनस
धूल, मिट्टी, कीचड़ और गंदगी में तरह-तरह के बैक्टीरिया मौजूद होते हैं. अक्सर बच्चे अपने छिलने-कटने पर ध्यान नहीं देते और खेलते-खेलते कहीं भी चले जाते हैं. कट या घाव पर किचड़, धूल-मिट्टी लगने से आप और आपका बच्चा संक्रमित हो सकता है. घाव को गंदगी के संपर्क में आना से बचाएं वरना यह आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है.

ये गलतियां बनती हैं महिलाओं में यूरिन इन्फेक्शन का कारण

ऑफिस में ना रहें गुमसुम, खुलकर करें बात होगा स्ट्रेस काम

आपके तनाव को दूर करती है माचा चाय, जानें का है इसके लाभ