सीबीआई के सहायक प्रोग्रामर के खिलाफ मामला दर्ज

नई दिल्ली : अपराधों का अन्वेषण करने वाली एजेंसी का कारिंदा अजय गर्ग अवैध सॉफ्टवेयर की मदद से रेलवे टिकट की बुकिंग के आरोप में पकड़ा गया.. अजय गर्ग पर तीन करोड़ रुपये से अधिक संपत्‍ति बनाने का आरोप है. अजय गर्ग पर आय से अधिक संपत्‍ति का मामला दर्ज कर लिया है.

बता दें कि सीबीआई के सहायक प्रोग्रामर अजय गर्ग ने अपने एक साथी के साथ मिलकर एक सॉफ्टवेयर बनाया था. इस अवैध सॉफ्टवेयर की मदद से एजेंट रेलवे टिकट बुक किए जाते थे.इस अवैध सॉफ्टवेयर से आम लोगों को टिकट नहीं मिल पाते थे. खास बात यह है कि आरोपी अजय गर्ग 2007 से 2011 तक आईआरसीटीसी में ही काम करता था. वहीं उसने आईआरसीटीसी की खामियों को जाना और यह सॉफ्टवेयर बनाया. इस गलत धंधे को अजय एजेंट अनिल कुमार गुप्ता के जरिये करता था.वह अनिल से सॉफ्टवेयर के बदले पैसे लेता था और हवाला, बिट क्‍वाइन के माध्यम से अजय गर्ग को पैसे देता था. ऐसा एक साल से चल रहा था.

उल्लेखनीय है कि आरोपी अजय गर्ग 2012 में यूपीएससी की परीक्षा पास होने के बाद सीबीआई में सहायक प्रोग्रामर के पद पर नौकरी पर लगा था. गर्ग को दिल्ली की साकेत कोर्ट ने 5 दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है, वहीं दूसरे आरोपी अनिल गुप्ता को सीबीआई ट्रांजिट रिमांड पर उत्तर प्रदेश के जौनपुर से दिल्ली लाएगी और उसे साकेत कोर्ट में पेश करेगी. अन्वेषण एजेंसी का ऑफिस का कर्मचारी एक साल से धोखाधड़ी करता रहा लेकिन किसी को भनक नहीं लगी यह अचरज की बात है.

यह भी देखें

सीबीआई ने मेहुल चौकसी के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया

पीएनबी घोटाले में अधिकारियों पर कार्रवाई शुरू

 

Most Popular

- Sponsored Advert -