रेलवे में आज से शुरू होगी कैरी फॉरवर्ड व्यवस्था, TTE का रूतबा घटा

नई दिल्ली ​: प्रायः स्टेशनों पर ट्रेनों के रुकते ही वेटिंग लिस्ट वाले यात्री ट्रेवल टिकट एग्जामिनर (टीटीई) को घेर कर अक्सर खाली बर्थ मांगते देखे जा सकते है, लेकिन अब ऐसा नहीं हो सकेगा. टीटीई अब सीधे बर्थ अलॉट नहीं कर सकेंगे क्योंकि आज 20 अक्टूबर से रेलवे ने कैरी फॉरवर्ड कि केंद्रीय व्यवस्था शुरू कर दी है. इस व्यवस्था में खाली बर्थ से मौजूदा स्टेशन की वेटिंग क्लियर करने के बाद अगले स्टेशन के वेटिंग टिकट वाले यात्रियों को बर्थ अलॉट होती चली जाएगी.

इस सम्बन्ध में चक्रधरपुर रेल मंडल के वाणिज्य विभाग के अधिकारियों ने बताया कि ट्रेन में टीटीई के साथ अक्सर पैसे के लेन-देन को लेकर शिकायतें होती थीं. बर्थ अपने आप कैरी फॉरवर्ड हो जाएगी. इससे कम कोटे वाले स्टेशनों से यात्रा करने वाले लोगों को राहत मिल सकेगी. इसे यूँ भी समझा जा सकता है. मिसाल के तौर पर गीतांजलि एक्सप्रेस हावड़ा से खुलती है, यदि इस ट्रेन में हावड़ा कोटे की सीट खाली रहती है, तो उससे अगले रिमोट स्टेशन टाटानगर के वेटिंग लिस्ट वाले यात्रियों की बर्थ कन्फर्म हो जाएगी. टीटीई हावड़ा से टाटानगर तक ही यात्री को बर्थ अलॉट कर सकते हैं.

इसके अलावा अधिकारी ने यह भी बताया कि रेलवे ने यात्रियों एक और सुविधा दे दी है. अब यात्री किसी ट्रेन के आने के पांच मिनट पहले तक करंट रिजर्वेशन ले सकेंगे पहले आधा घंटा तक करंट रिजर्वेशन लेने का प्रावधान था. वहीँ चक्रधरपुर मंडल के एसडीसीएम सत्यम प्रकाश ने कहा कि रेलवे ने कैरी फॉरवर्ड व्यवस्था शुरू की है. यह  केंद्रीय  व्यवस्था गुरुवार से लागू हो जाएगी. इससे छोटे स्टेशन जहां कम कोटा होता है, वहां के यात्रियों को कन्फर्म सीट मिलेगी.

बिना इंटरनेट के तीन रुपए में बुक कराएं ट्रेन टिकट

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -