इतिहास में भी बना सकते है अपना करियर, ये है बेहतर विकल्प

आज-कल युवाओं का रुझान ऑफबीट करियर विकल्प की ओर बढ़ रहा है। जहां सामान्य रूप से लोग विज्ञान या कॉमर्स की फिल्ड में करियर बनाते हैं, वहीं कुछ इतिहास या अन्य विषयों में ऑनर्स की डिग्री लेकर उसी में करियर का मार्ग चुनते हैं। इतिहास में ग्रेजुएशन, पोस्ट ग्रेजुएशन या पीएचडी करने के पश्चात् करियर संवारने के कई अवसर प्राप्त होंगे। इसमें सरकारी और गैर सरकारी, दोनों फिल्ड में नौकरी की अपार संभावनाएं हैं। इतिहास को कभी भी ज्यादा ग्लैमरस विषय नहीं माना गया है। मगर उसके बाद भी इस विषय की पढ़ाई करने के पश्चात् करियर के कई बेहतरीन अवसर प्राप्त हो जाते हैं। इतिहास विषय में विशेषज्ञता हासिल करके आप अपना मार्ग स्वयं बना सकते हैं। इंटरनेट के जमाने में भी भारत या वैश्विक इतिहास जानकर आप इसमें महारत प्राप्त कर सकते हैं।

3 भागों में बंटा है इतिहास:-
किसी भी बीती हुई घटना को इतिहास बोला जाता है। इतिहास में सामान्य रूप से वही घटनाएं प्रत्येक स्थान पर मिलती हैं, जिनके कारण समाज और देश पर असर पड़ता है। इस आधार पर इतिहास को मोटे तौर पर दो भागों में बांटा जाता है। एक ऐसा इतिहास जिसका लिखित प्रमाण है, दूसरा जिसका लिखित प्रमाण नहीं है। भारत के सिलसिले में इतिहास को 3 भागों में बांटा गया है- प्राचीन इतिहास, मध्यकालानी इतिहास तथा आधुनिक इतिहास।

इतिहास में करियर विकल्प:-
इतिहास विषय की पढ़ाई करने के पश्चात् करियर की कई नई राहें खुल जाती हैं। जानिए, इस विषय में विशेषज्ञता हासिल कर लेने के पश्चात् कहां करियर बना सकते हैं।

आर्कियोलॉजिस्ट (Archaeologist Jobs):- ऐतिहासिक पोर्टल की पहचान से लेकर उनके रख-रखाव पर अब सभी सरकारों का फोकस है। ऐसे में आर्कियोलॉजिस्ट के लिए नए मौके बन रहे हैं। इसके अतिरिक्त अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी कई संस्थान और विश्वविद्यालय हैं, जहां पर आर्कियोलॉजी एक्स्पर्ट को हायर किया जाता है।

ट्रैवल एक्सपर्ट:- आज के समय में लोगों में ट्रैवलिंग का शौक बढ़ता जा रहा है। एक अच्छा इतिहासकार एक अच्छा यात्रा विशेषज्ञ भी बन सकता है। इंफोटेनमेंट चैनल को अच्छे यात्रा विशेषज्ञ की हमेशा आवश्यक होती है, जिससे ब्रॉडकास्ट मीडिया में भी जगह मिल जाती है 

कंजर्वेटर और म्यूजियोलॉजिस्ट:- नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ म्यूजियम, कंजर्वेटर, म्यूजियोलॉजिस्ट जैसे पोस्ट ग्रेजुएशन डिग्री अथवा डिप्लोमा कोर्स कराता है। यहां से डिग्री लेकर कंजर्वेटर तथा म्यूजियोलॉजिस्ट बना जा सकता है। इसके तहत म्यूजियम मैनेजमेंट, रिसर्च, पब्लिक रिलेशंस से लेकर डिजाइनिंग में करियर बनाया जा सकता है।

म्यूजियम क्यूरेटर:- यह भी विशेष प्रकार का करियर है। इसमें प्राचीन धरोहरों के रख-रखाव से लेकर उनकी पहचान आदि जैसे काम किए जाते हैं।

इतिहास विशेषज्ञ:- इतिहास की फिल्ड में आप इतिहास के प्रोफेसर तहा एक्सपर्ट भी बन सकते हैं। इनकी यूनिवर्सिटी एवं कॉलेज में मांग होती है। साथ ही एक्सपर्ट के तौर पर भी मांग बढ़ती जा रही है। विशेष रूप से राजनीतिक इतिहास के एक्सपर्ट्स की मांग इन दिनों बहुत बढ़ी है। इन क्षेत्रों के अतिरिक्त अध्यापक के तौर पर भी करियर बनाया जा सकता है।

पिता से नफरत करते थे जावेद जाफरी, मिथुन संग काम करने से किया था मना

मेजर ध्यानचंद को किसने दी थी 'हॉकी के जादूगर' की उपाधि ? पढ़ें पूरा किस्सा

देव आनंद के चक्कर में बैन हो गए थे काले कोट, 30 रुपए ने बना दिया सुपरस्टर

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -