क्या आपको भी है वकालत में दिलचस्पी? तो 12वी के बाद करें ये कोर्स

देश के सभी प्रदेशों में 10वीं और 12वीं के परिणाम घोषित हो हो चुके हैं तथा यूनिवर्सिटी में एडमिशन की प्रक्रिया आरम्भ हो गई है। ऐसे में कई विद्यार्थियों को करियर को लेकर असमंजस की स्थिति बनी रहती है। जिन विद्यार्थियों को वकालत के क्षेत्र में दिलचस्पी है उन्हें बीए एलएलबी कोर्स करना चाहिए। यह 5 वर्ष का एक इंटीग्रेटेड कोर्स होता है। इसमें विद्यार्थी 5 वर्ष में अर्थशास्त्र, इतिहास, राजनीति विज्ञान, समाजशास्त्र के साथ-साथ नागरिक लॉ, आपराधिक लॉ, टैक्स लॉ, प्रशासनिक लॉ, कॉर्पोरेट लॉ, पेटेंट लॉ आदि जैसे विषयों का अध्ययन कर सकते हैं। इस कोर्स को करने के पश्चात् कई करियर विकल्प मिल जाते हैं।

न्यायाधीश- भारत की सबसे अधिक सम्मानित नौकरियों में से एक जज की नौकरी मानी जाती है। इसके लिए अभ्यर्थियों को न्यायपालिका परीक्षा में सम्मिलित होना होता है। परीक्षा पास करने के साथ ही हाई कोर्ट में बतौर वकील 7 से 10 वर्ष के अनुभव के पश्चात् आप जज के पोस्ट के लिए आवेदन कर सकते हैं। इसके लिए अभ्यर्थियों की आयु 45 वर्ष से ज्यादा नहीं होनी चाहिए। अलग-अलग न्यायपालिका परीक्षाओं में आप तभी सम्मिलित हो सकेंगे जब आप उस प्रदेश के मूल निवासी हों या वो परीक्षा देश भर के स्तर पर आयोजित की जाए।

कंपनी सेक्रेटरी- कंपनी चलाने के लिए कंपनी सेक्रेटरी का महत्वपूर्ण किरदार होता है। यही कारण है कि कंपनी सेक्रेटरी की मांग तेजी से बढ़ती जा रही है। BA LLB जैसी लॉ की डिग्री वाले विद्यार्थियों के पास कंपनी सेक्रेटरी बनने का शानदार विकल्प होते हैं। अभ्यर्थियों को सीएस में एक सर्टिफिकेट कोर्स करना होता है, जिसकी पढ़ाई सिर्फ इस्टीट्यूट ऑफ कंपनी सेक्रेटरी ऑफ इंडिया करवाता है।

अमेरिकी फ़ौज के हटते ही तालिबान ने शुरू किया खुनी खेल, पंजशीर के शेरों पर किया चौतरफा हमला

मूसलाधार बारिश के कारण 5 लोगों की गई जान, आपदा प्रभावित क्षेत्र पहुंचे सीएम पुष्कर सिंह धामी

'प्यार का चक्कर छोड़कर करियर पर ध्यान दो...' बोलकर फांसी के फंदे पर झूला परमजीत

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -