यदि अचानक आए Cardiac Arrest, तो करें ये काम

अभी हाल ही में क्रिकेट के लीजेंड्री प्लेयर डीन जोन्स का अचानक आए कार्डीऐक अरेस्ट से देहांत हो गया। इससे पूर्व देश के पूर्व प्रेसिडेंट ए.पी.जे. अब्दुल कलाम का देहांत भी अचानक दिल की धड़कने रुक जाने के कारण हुआ था। वह एक प्रतिष्ठित कॉलेज में लेक्चर देते समय अचानक गिर पड़े थे। ऐसी कई फैमिली हैं, जिन्होंने अचानक आए कार्डीऐक अरेस्ट के कारण अपने करीबियों को खोया है।  

पुरे विश्व में कार्डीऐक अरेस्ट से मौतों की सबसे बड़ी वजह बनी हुई है। वही वर्ष 2017 में अमेरिका में अचानक आए कार्डीऐक अरेस्ट के कारण लगभग 3 लाख 57 हज़ार व्यक्तियों को जान गवांनी पड़ी थी। प्रत्येक वर्ष पुरे विश्व में 5 से 10 लाख व्यक्तियों की मौत कार्डीऐक अरेस्ट के कारण होती है, जिसमें 10 प्रतिशत केस भारत में देखे जाते हैं।

वही यदि आप किसी को अपने समक्ष बेहोश होते देखें, तो सबसे प्रथम उस इंसान को भूमि पर सीधा लेटाएं। उसे बिठाने अथवा फिर खड़ा करने का प्रयास न करें। यदि वो शख्स केवल बेहोश हुआ है, तो उसे 20 से 30 सेकेंड में होश आ जाएगा। परन्तु यदि उसे 40 से 50 सेकेंड में भी होश न आए, तो वो कार्डीऐक अरेस्ट हो सकता है। वही जैसे ही आपको लगे कि ये कार्डीऐक अरेस्ट है, तो सबसे प्रथम किसी को सहायता के लिए पुकारें। यदि आपके आसपास कोई नहीं है, तो एमर्जेंसी नम्बर पर कॉल करें। शख्स को ज़मीन पर सीधा लेटे पहने दें। उसके कंधे को हिलाकर उसे ज़ोर से पुकारें तथा देखें कि वह कैसी प्रतिक्रिया देता है। यदि उसकी ओर से कोई उत्तर नहीं आता, तो उसकी सांस तथा धड़कनों को चेक करें। यदि आपको उसकी धड़कने नहीं सुनाई देती, तो तुरंत चेस्ट कम्प्रेशन की सहायता से उसे होश में लाने का प्रयास करें। अतः ऐसी स्थिति में तुरंत डॉक्टर को बताना आवश्यक है।

काली मिर्च खाएं और परेशानी को दूर भगाएं

इन समस्या से निजात दिलाता है कड़ी पत्ता

डॉ हर्षवर्धन बोले- अभी हर्ड इम्युनिटी से बहुत दूर है भारत, कोरोना के लिए एहतियात जरुरी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -