ड्राइविंग के दौरान गियर चेंज करने में होती है परेशानी, इस टिप्स से होगा फायदा

ड्राइविंग के दौरान गियर चेंज करने में होती है परेशानी, इस टिप्स से होगा फायदा

इन दिनों मैनुअल ट्रांसमिशन वाली कारों की बजाय ऑटोमोबाइल सेक्टर में ऑटोमैटिक कारें जगह बना रही हैं. वहीं कार लवर्स भी अब ऑटोमैटिक कारों की प्रिफरेंस देने लगे हैं. हालंकि देश में अभी भी सर्वाधिक बिकने वाली कारों में मैनुगल गियर वाली होती हैं. लेकिन बावजूद इसके लोग मैनुअल गियरबॉक्स वाली कारें चलाने में गलतियां करते हैं, जिसका खामियाजा उन्हें बाद में भुगतना पड़ता है. मैनुअल गियरबॉक्स के साथ होने वाली आपकी कुछ गलतीया.

Suzuki Vs Kawasaki में से किसकी बाइक है दमदार, जानिए स्पेसिफिकेशन

सबसे बड़ां अंतर क्लच का मैनुअल और ऑटोमैटिक गियरबॉक्स में ही होता है. लेकिन मैनुअल में गियर्स तभी काम करेंगे, जब ठीक से क्लच का उपयोग किया जाए. असल में क्लच इंजन और ट्रांसमिशन के बीच की कड़ी होता है. अगर क्लच और गियर का कॉर्डिनेशन बिल्कुल सही है, इंजन की लाइफ भी बढ़ती है. साथ ही कार का माइलेज  भी अधिक मिलता है.

Honda CB150R Streetster बाइक KTM 125 Duke की तुलना मे कितनी है बेहतर, पढ़ें डिटेल

गियर बदलते समय कुछ लोग क्लच को आधा ही दबाते हैं, जिससे पार्ट्स की लाइफ भी कम होती है और कई बार गियर अटक जाते हैं. वहीं कुछ लोग चलती गाड़ी में क्लच छोड़ने से पहले ही गियर बदल देते हैं, जिससे क्लच के साथ गियरबॉक्स को भी नुकसान पहुंचता है. कई लोग ऐसे होते हैं जो क्लच को डेड पैडल की तरह इस्तेमाल करते हैं. कुछ लोग यह सोच कर पैर रखते हैं कि इससे बार-बार पैर इधर उधर नहीं करना पड़ेगा और जल्दी गियर बदल सकेंगे. लेकिन ऐसा करने से पहले ध्यान रखें कि क्लच पैडल के ऊपर पैर का कोई प्रेशर न पड़े. हालांकि हार्ड क्लच की समस्या डीजल कारों के साथ होती है, वही काफी सॉफ्ट क्लच पेट्रोल कारों मे होता है.

2019 Bajaj Dominar का फर्स्ट लुक आया सामने, दो नए कलर में होगी लॉन्च

Honda CBR650R का नया अवतार आया सामने, जानिए फीचर्स

Aprilia Storm 125 में मोबाइल से कनेक्ट करने की मिलेगी सुविधा, ये है लॉन्च डेट