क्या मैट के बिना जमीन पर भी कर सकते हैं योग? जानिए एक्सपर्ट्स की राय

क्या मैट के बिना जमीन पर भी कर सकते हैं योग? जानिए एक्सपर्ट्स की राय
Share:

आज की व्यस्त जीवनशैली में लोग अपनी फिटनेस पर ज़्यादा ध्यान देने लगे हैं। कुछ लोग व्यायाम के लिए जिम जाना पसंद करते हैं, जबकि दूसरे घर पर ही योगाभ्यास करना पसंद करते हैं। जिम वर्कआउट के विपरीत, जिसमें अक्सर कई तरह के उपकरणों की ज़रूरत होती है, योग के लिए आम तौर पर सिर्फ़ एक ज़रूरी चीज़ की ज़रूरत होती है: योगा मैट। यह सरल उपकरण योग करने वालों के लिए अपरिहार्य माना जाता है, जो आसन और स्ट्रेच करने के लिए एक स्थिर और साफ़ सतह प्रदान करता है।

आज बाज़ार में कई तरह के योगा मैट उपलब्ध हैं, जिनमें से प्रत्येक को योग अभ्यास के लिए खास सामग्री से बनाया गया है, जो दूसरे तरह के मैट से अलग है। हालाँकि, कई लोग इस बात को लेकर असमंजस में रहते हैं कि क्या योगा मैट का इस्तेमाल करना ज़रूरी है और क्या योग का अभ्यास सीधे ज़मीन पर किया जा सकता है। आइए विशेषज्ञों की सलाह से इन चिंताओं पर चर्चा करें।

क्या योगा अभ्यास के लिए योगा मैट ज़रूरी है?
विशेषज्ञों के अनुसार, कई कारणों से योगा मैट का इस्तेमाल करने की सलाह दी जाती है। सबसे पहले, यह योग आसन के दौरान शरीर का संतुलन बनाए रखने में मदद करता है। मैट के बिना, फिसलने या स्थिरता खोने का जोखिम रहता है, जिससे संभावित रूप से चोट लग सकती है, खासकर वृद्ध व्यक्तियों या कम चपलता वाले लोगों के लिए। इसके अतिरिक्त, योग मैट कुशनिंग प्रभाव प्रदान करते हैं जो व्यायाम को अधिक आरामदायक बनाता है, खासकर जब फर्श जैसी कठोर सतहों पर अभ्यास किया जाता है। यह कुशनिंग न केवल जोड़ों की सुरक्षा करता है बल्कि आसन के बीच सहज संक्रमण की अनुमति देकर समग्र योग अनुभव को भी बढ़ाता है।

इसके अलावा, स्वच्छता एक और महत्वपूर्ण पहलू है। योग मैट अभ्यासकर्ता और फर्श के बीच एक व्यक्तिगत अवरोध के रूप में कार्य करते हैं, जिस पर गंदगी, धूल या बैक्टीरिया हो सकते हैं। यह पृथक्करण वर्कआउट के दौरान स्वच्छता बनाए रखने में मदद करता है और संभावित रूप से गंदी सतहों के साथ सीधे संपर्क को रोकता है।

सही योग मैट चुनना
योग मैट चुनते समय, यह सुनिश्चित करने के लिए कई कारकों पर विचार किया जाना चाहिए कि यह व्यक्तिगत आवश्यकताओं और प्राथमिकताओं को पूरा करता है:

सामग्री: विशेष रूप से योग के लिए डिज़ाइन की गई सामग्री से बने मैट चुनें, जैसे कि PVC, TPE, रबर, या कपास या जूट जैसे प्राकृतिक फाइबर। प्रत्येक सामग्री स्थायित्व, पकड़ और पर्यावरण मित्रता के मामले में अलग-अलग गुण प्रदान करती है।

मोटाई: मैट की मोटाई आराम और समर्थन को प्रभावित करती है। आम तौर पर, मैट 1/16 इंच से 1/4 इंच मोटी होती हैं। मोटे मैट अधिक कुशनिंग प्रदान करते हैं लेकिन ले जाने में भारी हो सकते हैं।

बनावट: हाथों और पैरों को मुद्राओं के दौरान फिसलने से बचाने के लिए नॉन-स्लिप बनावट वाली चटाई की तलाश करें। कुछ चटाईयों में बेहतर पकड़ के लिए बनावट वाली सतह होती है, जो योग की जोरदार शैलियों के लिए फायदेमंद हो सकती है।

आकार: सुनिश्चित करें कि चटाई आपके शरीर के आकार को आराम से समायोजित करने के लिए पर्याप्त लंबी और चौड़ी हो और योग अभ्यास के दौरान स्वतंत्र रूप से हिलने-डुलने की अनुमति दे।

वजन और पोर्टेबिलिटी: इस बात पर विचार करें कि आप कितनी बार चटाई ले जाएँगे और यदि आप इसके साथ अक्सर यात्रा करते हैं तो हल्के विकल्प चुनें।

पर्यावरण संबंधी विचार: यदि पर्यावरण-मित्रता आपके लिए महत्वपूर्ण है, तो प्राकृतिक या पुनर्नवीनीकृत सामग्री से बने मैट चुनें जिनका पर्यावरण पर न्यूनतम प्रभाव पड़ता है।

योगा मैट का रखरखाव
अपने योगा मैट के जीवन को बढ़ाने और स्वच्छता की स्थिति सुनिश्चित करने के लिए नियमित रखरखाव महत्वपूर्ण है:

सफाई: पसीने, गंदगी और बैक्टीरिया को हटाने के लिए अपनी योगा मैट को नियमित रूप से साफ करें। एक सौम्य मैट क्लीनर या पानी और हल्के साबुन के घोल का उपयोग करें। कठोर रसायनों से बचें जो मैट की सामग्री को खराब कर सकते हैं।

सुखाना: सफाई के बाद, चटाई को रोल करने से पहले पूरी तरह से हवा में सूखने दें। सीधी धूप से बचें, क्योंकि अत्यधिक गर्मी कुछ मैट सामग्री को नुकसान पहुंचा सकती है।

भंडारण: जब उपयोग में न हो तो अपनी चटाई को ठंडी, सूखी जगह पर रखें। इसे लंबे समय तक सीधे धूप या अत्यधिक तापमान के संपर्क में न रखें, क्योंकि इससे सामग्री खराब हो सकती है।

एक उपयुक्त योग चटाई का चयन और रखरखाव करके, अभ्यासकर्ता सुरक्षा, आराम और स्वच्छता सुनिश्चित करके अपने योग अभ्यास को बढ़ा सकते हैं। चाहे आप घर पर, स्टूडियो में या बाहर योग का अभ्यास करें, अपनी ज़रूरतों के हिसाब से तैयार की गई गुणवत्ता वाली चटाई में निवेश करना एक संतोषजनक और आनंददायक योग अनुभव में महत्वपूर्ण रूप से योगदान देगा।

अगर आपको गर्मियों में भी हो रहा है डैंड्रफ, तो ये 3 चीजें आपकी मदद

विटामिन बी12 की अधिकता भी शरीर के लिए होती है हानिकारक

बार बार सूख रहे है होंठ? तो ये हो सकती है वजह

Share:
रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -