गोलियों से छलनी इंदिरा गांधी की तस्वीर, हत्यारों का महिमामंडन..! ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर खालिस्तानियों का प्रदर्शन

गोलियों से छलनी इंदिरा गांधी की तस्वीर, हत्यारों का महिमामंडन..! ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी पर खालिस्तानियों का प्रदर्शन
Share:

ओटावा: 6 जून को ऑपरेशन ब्लू स्टार की बरसी थी। इस दिन भारत में स्वर्ण मंदिर के अंदर खालिस्तान समर्थक नारे लगाए गए और कनाडा में भी इसी तरह के विरोध प्रदर्शन किए गए। यहां खालिस्तानी अलगाववादियों ने भारतीय वाणिज्य दूतावास के बाहर पोस्टर लगाकर पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या का मजाक उड़ाया। पोस्टरों में इंदिरा गांधी को गोलियों से छलनी दिखाया गया है और उनके हत्यारों बेअंत सिंह और सतवंत सिंह का महिमामंडन किया गया है। अभी तक कांग्रेस पार्टी की ओर से इस विरोध प्रदर्शन की कोई निंदा या प्रतिक्रिया नहीं आई है।

भारत में भी ऐसी ही घटनाएं सामने आईं, जहां ऑपरेशन ब्लू स्टार की 40वीं वर्षगांठ पर अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में खालिस्तान समर्थक नारे लगाए गए। प्रदर्शनकारियों ने मारे गए अलगाववादी नेता जरनैल सिंह भिंडरावाले के पोस्टर ले रखे थे। शिरोमणि अकाली दल (अमृतसर) के प्रमुख सिमरनजीत सिंह मान भी नारे लगाने और पोस्टर दिखाने वालों में शामिल थे। प्रतिक्रियास्वरूप स्वर्ण मंदिर के आसपास सुरक्षा बढ़ा दी गई तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एसएस रंधावा सिंह ने कहा कि किसी भी अप्रिय घटना पर नजर रखने के लिए उपाय किए गए हैं। यह पहली बार नहीं है जब कनाडा में इस तरह का प्रदर्शन आयोजित किया गया हो।

 

इससे पहले भी 4 जून, 2023 को ब्रैम्पटन में 5 किलोमीटर के सिख मार्च के दौरान इंदिरा गांधी की उनके सिख अंगरक्षकों द्वारा की गई हत्या का महिमामंडन करने वाली एक झांकी प्रदर्शित की गई। वार्षिक सिख शहीदी परेड का हिस्सा रही इस झांकी में खालिस्तानी झंडे और पोस्टर शामिल थे, जिन पर लिखा था “श्री दरबार साहिब पर हमले का बदला” और “1984 को कभी मत भूलना। सिख नरसंहार।” नवंबर 2023 में, कनाडाई गायक और रैपर शुभनीत सिंह (शुभ) लंदन में एक संगीत कार्यक्रम के दौरान विवादों में घिरे थे। खालिस्तान समर्थक एक हैंडल द्वारा शेयर किए गए वीडियो में उन्हें पंजाब के चित्रण और इंदिरा गांधी की हत्या का कैरिकेचर वाला हुडी पहने हुए दिखाया गया था, जिसमें उनके हत्यारों, सतवंत और बेअंत सिंह का प्रचार किया गया था।

इसी प्रकार, पिछले वर्ष 28 मई को भी अमृतसर के स्वर्ण मंदिर के बाहर खालिस्तानी चरमपंथी जरनैल भिंडरावाले के खालिस्तान समर्थक पोस्टर लगाए गए थे। यह घटना ऑपरेशन ब्लू स्टार की 39वीं वर्षगांठ से पहले घटित हुई थी। स्वर्ण मंदिर के बाहर लगे पोस्टर पर लिखा था, "जून 1984 के श्री दरबार साहिब के शहीदों को श्रद्धांजलि"। यह ऑपरेशन भारतीय फौज द्वारा किया गया था।" कट्टरपंथी सिख संगठन दमदमी टकसाल के प्रमुख जरनैल सिंह भिंडरावाले और उनके हथियारबंद अनुयायियों को ऑपरेशन ब्लू स्टार के दौरान मार दिया गया था। भारतीय सेना ने स्वर्ण मंदिर से आतंकवादियों को बाहर निकालने के लिए प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के आदेश पर 6 जून 1984 को यह ऑपरेशन शुरू किया था।

इस ऑपरेशन की भारी आलोचना हुई और कुछ महीनों बाद 31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गांधी की उनके सिख अंगरक्षकों द्वारा हत्या कर दी गई। हाल ही में संपन्न लोकसभा चुनावों में, बेअंत सिंह (इंदिरा गांधी के हत्यारों में से एक) के बेटे सरबजीत सिंह खालसा ने आम आदमी पार्टी के नेता करमजीत सिंह अनमोल पर 70,053 मतों के अंतर से फरीदकोट निर्वाचन क्षेत्र जीता। इससे पहले, लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) कुलदीप सिंह बरार, जिन्होंने स्वर्ण मंदिर से चरमपंथियों को हटाने के लिए 1984 के ऑपरेशन ब्लू स्टार का नेतृत्व किया था, ने टिप्पणी की थी कि दिवंगत प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आतंकवादी नेता जरनैल सिंह भिंडरावाले को एक “फ्रेंकस्टीन राक्षस” के रूप में विकसित होने दिया था, और जब वह बहुत शक्तिशाली हो गया तो उसे “खत्म करने” का फैसला किया था।

एक साक्षात्कार में, 1971 युद्ध के सेवानिवृत्त दिग्गज ने कहा, "कोई भी ऑपरेशन नहीं चाहता है, लेकिन आप क्या करते हैं? इंदिरा गांधी ने उन्हें (भिंडरावाले को) "फ्रेंकस्टीन" बनने की अनुमति दी। आप हर साल देख सकते थे कि (पंजाब में) क्या हो रहा था। लेकिन जब वह (भिंडरावाले) शिखर पर पहुंच गया, तो (सरकार ने कहा) अब उसे खत्म कर दो, अब उसे नष्ट कर दो। बहुत देर हो चुकी थी।" 

उन्होंने आगे दावा किया कि उस समय के राजनीतिक नेतृत्व ने अकाली (सिख गुट) और जनता दल (हिन्दू गुट) के बीच मतभेद बढ़ाने के लिए भिंडरावाले पंथ को पनपने दिया था, ताकि इसका लाभ कांग्रेस को मिले। लेकिन, फिर भिंडरावाले कांग्रेस के ही हाथों से बाहर हो गया। भिंडरावाले ने सिखों को कट्टरपंथी बनाने की कोशिश की, जिसका हिन्दू गुट ने विरोध किया, इसके बाद पंजाब में हिन्दुओं का नरसंहार हुआ और अकाली दल तथा जनता दल में दूरियां बढ़ गईं, जिसका सियासी लाभ कांग्रेस को हुआ। 

'कोर्ट में तलाक का केस, और इधर पत्नी की मांग भरते नजर आए पवन सिंह', लोगों ने उठाए सवाल

उज्जैन में कांग्रेस नेता को 7 करोड़ की वसूली नोटिस, लगा ये बड़ा आरोप

सिक्किम की लड़की का बिहार में सामूहिक बलात्कार, अरहान अख्तर और अमजद हुसैन गिरफ्तार

रिलेटेड टॉपिक्स
- Sponsored Advert -
मध्य प्रदेश जनसम्पर्क न्यूज़ फीड  

हिंदी न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_News.xml  

इंग्लिश न्यूज़ -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_EngNews.xml

फोटो -  https://mpinfo.org/RSSFeed/RSSFeed_Photo.xml

- Sponsored Advert -