पंचायत ने सुनाया नुकसान की भरपाई के लिए आदिवासी की भैंसे जब्त करने का फरमान

Sep 21 2015 02:53 PM
पंचायत ने सुनाया नुकसान की भरपाई के लिए आदिवासी की भैंसे जब्त करने का फरमान

मुरैना। मध्यप्रदेश के मुरैना में एक मामले के तहत गांव के दबंगो ने पंचायत के फैसले पर अपने चोरी गए जेवर की भरपाई के लिए गांव के ही एक आदिवासी की चार भैंसे अपने कब्जे में ले ली. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक यह मामला मुरैना के नगरा थाना क्षेत्र के मानधाता पुरा गांव में सामने आया है. पोरसा की रजौधा पंचायत के तहत आने वाले मानधाता का पुरा गांव में आदिवासी सूरज पाल अपने बीवी व बच्चो के साथ रहता है व सूरज पाल की पत्नी विद्यादेवी ने 15 सितंबर को पोरसा में हुई जनसुनवाई में एसपी विनीत खन्ना को बताया की गांव के ही एक सवर्ण परिवार की महिला के जेवर यात्री बस से गायब हो गए थे व उन्होंने इस चोरी का आरोप मुझ पर व मेरी बेटी पर लगाया. जबकि हम वहां पर थे ही नही, व इसके लिए  पोरसा थाने में इस घटना की एफआईआर भी हुई। व इस मामले में अदालत व पुलिस अपनी जाँच करती इससे पहले ही इस दबंग परिवार ने गांव में पंचायत बुलाकर व पंचायत ने इसमें मुझे व मेरी पति को बुलाया था. व इसमें पंचो ने दबंग का पक्ष लेते हुए सुनवाई में आदिवासी परिवार पर चोरी का आरोप लगाया व फरमान सुनाया की दबंग परिवार के गायब हुए कीमती जेवर की भरपाई के लिए आदिवासी परिवार की भेंसो को खोलकर दबंगो को दे दी जाए. 

इस दौरान सूरज पाल व उसकी पत्नी विद्यादेवी ने कहा की हमने कोई गहने चोरी नही किये है व यह तक कहा की जीप में हमारी महिलाए नही थी उसके बावजूद पंचायत ने एक तरफा निर्णय सुना दिया व इस बात  का कोई प्रमाण भी पंचायत के पास नही था. व विद्यादेवी ने कहा की पंचो के फैसले के बाद आरोपी नरेश, पवन, धन सिंह, गोलू आदि उनके घर आए और मारपीट कर चारों भैंस खोल ले गए. व इन आरोपियों ने सूरज पाल से एक कोरे कागज पर अंगूठा भी लगा लिया. विद्या देवी ने कहा की इस विवाद की मुख्य वजह वह छह बीघा जमीन है जो की यह दबंग हमसे हथियाना चाहते है जो की हमे पहले से पट्टे पर मिली है. व यह दबंग चाहते है की इस तरह से परेशान करके इन्हे यहां से भगा दे व इस जमीन पर फिर से इन लोगो का कब्जा हो जाए. विद्या देवी ने कहा की इन भेंसो के चले जाने से हमारा रोजी रोटी का जरिया ही छीन गया है व यह मामला करीब हफ्तेभर पूर्व से पुलिस के पास है जाँच जारी है हमने इस मामले में थाने में शिकायत दर्ज कराई है.  लेकिन हमे अभी तक पुलिस हमारी भेंस नही दिलवा पाई है.