बुद्ध पूर्णिमा की महिमा

वैशाख मास की पूर्णिमा इस साल 30 अप्रैल आज यानी सोमवार को है. इस दिन ही भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था. इसी दिन बोधगया में पीपल के वृक्ष के नीचे उन्हें बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी और वैशाख पूर्णिमा के दिन ही भगवान बुद्ध ने गोरखपुर से 50 किलोमीटर दूर स्थित कुशीनगर में महानिर्वाण की ओर प्रस्थान किया था. दुनियाभर के बौद्ध गौतम बुद्ध की जयंती को धूमधाम से मनाते हैं... 

बुद्ध पूर्णिमा न सिर्फ भारत बल्कि दुनिया के कई अन्य देशों में भी पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाई जाती है. श्रीलंका, कंबोडिया, वियतनाम, चीन, नेपाल थाईलैंड, मलयेशिया, म्यांमार, इंडोनेशिया जैसे देश शामिल हैं. श्रीलंका में इस दिन को 'वेसाक' के नाम से जाना जाता है, जो निश्चित रूप से वैशाख का ही अपभ्रंश है.

बुद्ध पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान का भी विशेष महत्व है. मान्यता है कि इस दिन स्नान करने से व्यक्ति के पिछले कई जन्मों के पापों से मुक्ति मिल जाती है. यह स्नान लाभ की दृष्टि से अंतिम पर्व माना जाता है. बुद्ध पूर्णिमा पर बौद्ध मतावलंबी बौद्ध विहारों और मठों में इकट्ठा होकर एक साथ उपासना करते हैं.

Buddha Purnima: खूबसूरत जीवन में इन विचारों के साथ आगे बढ़े...

बुद्ध पूर्णिमा: आज जयंती समारोह में शिरकत करेंगे पीएम मोदी

बुद्ध पूर्णिमा: शांति और त्याग की मिसाल गौतम बुद्ध

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -