संक्रामक रोग नहीं है ब्लैक फंगस, इसे अलग रंगों से नई पहचान देना गलत: स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली: कोरोना महामारी के संकट काल के बीच ब्लैक फंगल नई समस्या बनकर सामने आया है. इस पर स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि ब्लैक फंगस संक्रामक रोग नहीं है. इम्यूनिटी की कमी ही ब्लैक फंगस की वजह है. ये साइनस, राइनो ऑर्बिटल और ब्रेन में असर करता है. ये छोटी आंत में भी देखा गया है. सवास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि इसे अलग-अलग रंगों से पहचान देना गलत है. 

वहीं, स्वास्थ्य मंत्रालय ने कोरोना महामारी को लेकर एक बयान में कहा है कि देश में संक्रमण दर में लगातार गिरावट आ रही है. पिछले 24 घंटे में देश में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,22,000 मामले दर्ज किए गए हैं. 40 दिन के बाद ये अब तक के सबसे कम केस दर्ज किए गए हैं. जिला स्तर पर भी कोरोना संक्रमण के मामलों में गिरावट आ रही है. 3 मई तक रिकवरी दर 81.7 फीसद थी, जो अब बढ़कर 88.7 फीसद हो गई है. 

स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, बीते 22 दिनों से देश में सक्रिय मामलों की संख्या में कमी देखी जा रही है. 3 मई को देश में 17.13 फीसद सक्रिय मामलों की तादाद थी अब ये घटकर 10.17 फीसद रह गई है. पिछले 2 हफ्तों में सक्रिय मामलों की तादाद में लगभग 10 लाख की कमी देखी गई है. फिलहाल देश में फिलहाल 27 लाख केस एक्टिव हैं. 

अब बिना एड्रेस प्रूफ भी मिल सकेगा LPG सिलेंडर, ऐसे करें आवेदन

सावधान हो जाएं PNB के ग्राहक, 30 जून से नहीं मिलेगी यह सर्विस

सिंगापुर में है बॉलीवुड के ये 5 सबसे व्यस्त क्लब

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -