रथों पर सवार होकर महाराथी उतरेंगे बिहार चुनाव के महासमर में

पटना : इन दिनों बिहार में चुनावी घमासान का दौर है। चुनावी समर में नेताओं को आपस में मुकाबला करने के लिए रथ भी बेहतर ही चाहिए। एक ओर भाजपा की ओर से अब तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ब्रांडिंग कर उन्हें महारथी के तौर पर तैयार किया जा रहा है तो दूसरी ओर लालू और नीतिश कुमार अपने - अपने रथ पर सवार होकर एक साथ चुनावी चक्रव्यूह रचने में लगे हैं। ऐसे में भाजपा अपने महारथी को रथारूढ़ करने के लिए विशेष तैयारी में लगी है। इस दौरान भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पटना से करीब 160 परिवर्तन रथों को एक साथ रवाना करेंगे। भाजपा की यह रथ यात्रा बिहार के विभिन्न क्षेत्रों में पहुंचेगी। इस रथ यात्रा में आधुनिकता का समावेश भी होगा।

मिली जानकारी के अनुसार भाजपा के महासचिव और बिहार मामले के प्रभारी भूपेंद्र यादव द्वारा कहा गया है कि इस तरह के रथ प्रतिदिन 10 गांवों में पहुंचेंगे। इस दौरान पार्टी की आॅडियो और वीडियोग्राफी भी इन रथों में नज़र आएगी। विधानसभा चुनाव से पहले पार्टी की 30000 सार्वजनिक सभाऐं करने की योजना भी है। इस प्रचार अभियान में पार्टी द्वारा राज्य में हाल ही में बने 80 लाख नए सदस्यों को भी शामिल किया जाएगा।

मिली जानकारी के अनुसार राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन द्वारा इस तरह की रथ यात्रा के माध्यम से प्रचार अभियान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को गरीब समर्थक बताते हुए प्रारंभ किया जाएगा। इसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कुशासन पर भी चर्चा की जाएगी। यही नहीं भाजपा जनता को जदयू और राजद की वापसी बिहार में फिर से जंगलराज  कायम होने का रास्ता बनेगी। इसलिए राजग को मत देकर सुशासन लाया जा सकता है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -