IT संसदीय कमिटी के प्रमुख पद से शशि थरूर को हटाने की मांग, भाजपा सांसदों ने स्पीकर को लिखा पत्र

नई दिल्ली: पेगासस जासूसी कांड पर सियासी पारा लगातार चढ़ता जा रहा है. इस बीच इंफार्मेशन एंड टेक्नोलॉजी (IT) की पार्लियामेंट्री स्टैंडिंग कमेटी में टकराव बढ़ गया है. इस समिति के अध्यक्ष शशि थरूर हैं और उनके खिलाफ भाजपा सांसदों ने मोर्चा खोल दिया है. भाजपा सांसदों ने समिति की कार्यवाही की गोपनीयता के कथित उल्लंघन को लेकर लोकसभा स्पीकर को चिट्ठी लिखी है. उन्होंने शशि थरूर के पद पर बने रहने पर अपना 'अविश्वास' दर्शाया है और साथ ही उन्हें हटाने की मांग की है. 

वहीं, कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने उन तीन मंत्रालयों के अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की मांग की है, जो 28 जुलाई को पैनल की बैठक में शामिल नहीं हुए थे. शशि थरूर ने कहा है कि बैठक में शामिल होने से एन वक़्त में इनकार करना सदन की अवमानना के बराबर है. अधिकारियों ने बैठक से कुछ मिनट पहले पैनल सचिवालय को सूचित किया था.  जानकारी के अनुसार, 28 जुलाई को तीनों केंद्रीय मंत्रालयों से कोई अधिकारी कमेटी के समक्ष नहीं आया.

तीनों मंत्रालयों ने कह दिया था कि उनके अधिकारी दूसरे काम में व्यस्त हैं. इस बैठक में भाजपा और सहयोगी पार्टियों के 11 सांसद पहुंचे थे, किन्तु उन्होंने अटेंडेंस नहीं लगाई. ऐसे में उनके बैठे रहने के बाद भी कोरम पूरा नहीं हो सका. वहीं, भाजपा सांसद निशिकांत दुबे की अगुवाई में पार्टी सांसदों ने बैठक का बहिष्कार कर दिया था. दुबे का कहना था कि समिति के सदस्यों की सहमति से एजेंडा निर्धारित किया जाना चाहिए, मगर शशि थरूर खुद एजेंडा तय करते हैं. साथ ही एजेंडा सदस्यों को एडवांस में मिलना चाहिए, किन्तु नहीं दिया गया.

अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने संभावित सरकारी शटडाउन से बचने के लिए वित्त पोषण विधेयक किया पारित

सऊदी ने 18 महीनों में पहली बार रविवार को पर्यटकों के लिए खोली सीमाएं

'30 साल कांग्रेस को दिए लेकिन...', सिद्धू ने नाम सन्देश भेज पार्टी महासचिव ने की ख़ुदकुशी

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -