जब कार्यक्रम हुआ तब मैं BJP में नहीं था, अब मैं पार्टी के साथ हूँ

जब कार्यक्रम हुआ तब मैं BJP में नहीं था, अब मैं पार्टी के साथ हूँ

नई दिल्ली : मानव संसाधन मंत्री स्मृति इरानी के जएनयू विवाद व रोहित वेमुला पर दिए गए जवाब पर कांग्रेस सवाल उठा रही है और उसे मुद्दा बनाकर बवाल खड़े कर रही है। महिषासुर दिवस पर विवाद के बीच एक नया सत्य उजागर हुुआ है, जिससे बीजेपी का पक्ष कमजोर हो रहा है।

महिषासुर से संबंधित कार्यक्रम में बीजेपी सांसद उदित राज ने भी महिषासुर को शहीद माना था। बता दें कि यह कार्यक्रम तीन साल पहले हुआ था और अब वो इस मसले पर सफाई दे रहे है। कहा जा रहा है कि साल 2013 में जवाहरलाल नेहरू विश्‍वविद्यालय में आयोजित महिषासुर शहादत दिवस कार्यक्रम में बीजेपी के सांसद उदित राज भी शामिल हुए थे।

खुद उदितराज ने भी इसे कबूला है। उदितराज ने कहा कि वो 2013 में बीजेपी के नेता नहीं थे और एक सामाजिक कार्यकर्ता के तहत उस कार्यक्रम में गए थे। बीजेपी का उससे कोई वास्ता नहीं है। उदितराज ने कहा कि अब मैं पार्टी के विचारों के साथ हूँ और जेएनयू में जो हो रहा है, वो गलत है।

उन्होने कहा कि आज यदि बाबा साहेब होते तो वो भी जेएनयू में हो रही बातों का विरोध करते, क्यों कि आजादी का मतलब अफजल गुरु का समर्थन करना नहीं है। उदितराज ने कहा कि पार्टी में आने से पहले मैंने क्या किया वो अलग संदर्भ है।