रूकने को तैयार नहीं मोदी, अब उत्तरप्रदेश की तैयारी

नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी असम की जीत से उत्साहित है। अब भाजपा उत्तरप्रदेश चुनाव को लेकर अपना ध्यान लगा रही है। दरअसल उत्तरप्रदेश में भी भाजपा शानदार जीत की ओर बढ़ने का प्रयास कर रही है लेकिन यहां पर जातीय समीकरण, क्षेत्रीय दलों की राजनीति और अल्पसंख्यकों का मत प्रतिशत जैसे कई मसले हैं। दूसरी ओर भाजपा दंबंगों और दलितों की लड़ाई में कई बार आलोचनाऐं झेल चुकी है ऐसे में भाजपा के लिए काफी चुनौती है लेकिन असम की जीत से भाजपा, आरएसएस खेमा उत्साहित है। तो दूसरी ओर उत्तरप्रदेश को साधने के लिए भाजपा मुख्यमंत्री पद के दावेदार के लिए ब्रांड वेल्यु का उपयोग कर रही है। माना जा रहा है कि सीएम कैंडिडेट के तौर पर भाजपा केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह या फिर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी के नाम का चयन कर सकती है।

हालांकि अभी कुछ भी तय नहीं हो पाया है। मगर दूसरी ओर यह भी कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसी भी तरह से आराम के मूड में नज़र नहीं आ रहे हैं। पार्टी में फेरबदल के लिए मोदी और अन्य नेताओं ने प्रयास प्रारंभ कर दिया है। इस मामले में जांच और मरम्मत कार्य के रडार पर उनके मंत्रिमंडल से लेकर भाजपा संगठन और राज्यों के राज्यपाल तक भी शामिल हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार का भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और वित्त मंत्री अरूण जेटली के ही साथ दो घंटे से भी अधिक देर तक बैठक ली गई।

बैठक में एक एसा दल बनाने पर चर्चा प्रारंभ हुई जो कि वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के लिए आधार तैयार करे। यह भी कहा गया है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने मंत्रिमंडल में भी बदलाव कर सकते हैं जिससे संगठन को मजबूत बनाने में जिनकी जरूरत है वे संगठन में जा सकें और जो उत्तरप्रदेश के लिए खप सकें उन्हें उत्तरप्रदेश में खपा दिया जाए और कुछ नए जिनकी जरूरत केंद्र में हो उन्हें केंद्र में स्थान दिया जाए। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को उपाध्यक्षों और महासचिवों का साथ मिल सकता है।

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -