चंद्रशेखरन के टीसीएस छोड़ने से निवेशकों में चिंता

नई दिल्ली: एन चंद्रशेखरन के टाटा संस का प्रमुख बनने के बाद टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज के भविष्य को लेकर निवेशकों के माथे पे चिंता की लकीरें उभरने लगी है.बीते 8 सालों से टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज की कमान संभाल रहे एन चंद्रशेखरन कम्पनी को बहुत ऊंचाई पर ले गए थे.उनके जाने से टीसीएस का भविष्य जटिल और अनिश्चितता की स्थिति में आ गया है.

गौरतलब है कि2009 में कमान संभालने के बाद से 2016 तक टीसीएस की कमाई को तिगुना करने वाले चंद्रशेखरन अब 21 फरवरी से टाटा संस की जिम्मेदारी संभालेंगे. स्मरण रहे कि टाटा संस के वार्षिक राजस्व  का बड़ा हिस्सा समूह की कंपनियों के लाभांश से आता है. इसमें टाटा मोटर्स और टाटा स्टील मुख्य है, लेकिन आईटी सर्विसेज और कंसल्टिंग व्यवसाय  वाली कंपनी टीसीएस की करीब 90 फीसदी  हिस्सेदारी है.

खबर है कि एन चंद्रशेखरन के टीसीएस छोड़ने से निवेशक चिंतित है. बीते गुरुवार को टीसीएस के तिमाही नतीजे अनुमान से बेहतर आने की घोषणा की गई थी , लेकिन शुक्रवार को कंपनी के शेयरों में 4 फीसदी से अधिक की गिरावट दिखी.निवेशक चाहते हैं कि चंद्रशेखरन कुछ और दिनों तक टीसीएस के मुखिया बने रहें.

रतन बोले ऊंचाइयों पर ले जाने के साथ टाटा ग्रुप के मूल्यों की रक्षा करेंगे चंद्रा

एन चंद्रशेखरन के टाटा संस का चेयरमैन बनने से उद्योग जगत खुश

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -