भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान को शीर्ष पर पहुंचाने वाले प्रमुख फिजिसिस्ट थे विक्रम साराभाई

Aug 12 2020 12:04 AM
भारतीय अंतरिक्ष विज्ञान को शीर्ष पर पहुंचाने वाले प्रमुख फिजिसिस्ट थे विक्रम साराभाई

आज यानी 12 अगस्त को महान वैज्ञानिक डॉक्टर विक्रम साराभाई की जयंती मना रहे है. बता दे कि आपने सुना ही होगा कि चंद्रयान – 2 मिशन में चंद्रमा पर उतारे जाने वाले रोवर का नाम विक्रम साराभाई रखा गया था. लेकिन क्या आप जानते हैं आखिर कौन है विक्रम साराभाई? तो हम आपको बता दें कि विक्रम साराभाई एक ऐसा नाम है, जिसे भारतीय अंतरिक्ष के प्रत्येक कार्यक्रमों में जनक की उपाधि दी गई है. आज उनकी पुण्यतिथि के मौके पर उनके जीवन से जुड़ी अहम जानकारी देने वाले है.

अगर बात करें निजी जीवन की तो भारत में एक महान वैज्ञानिक डॉक्टर विक्रम साराभाई ने अहमदाबाद की धरती पर जन्म लिया, वह तिथि सन 1919 में अगस्त माह की 12 तारीख थी. डॉक्टर साराभाई किसी ऐसे वैसे गरीब परिवार से नहीं बल्कि अहमदाबाद के एक सबसे बड़े उद्योगपति परिवार के सुपुत्र थे. उनके पिता अंबालाल साराभाई कई उद्योगों के मालिक थे. वे भारतीय स्वतंत्रता में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे चुके थे, साथ ही वह एक भारतीय वैज्ञानिक, भौतिक विज्ञानी और खगोल शास्त्र भी थे. डॉ विक्रम साराभाई की माता श्रीमती सरला देवी ने मांटेसरी पद्धति की प्रक्रिया का पालन करते हुए निजी स्कूल बनाया. उनका उद्देश्य केवल बच्चों के लिए पूरे संभव विकास का था, क्योंकि वे सिर्फ किताबी ज्ञान ही नहीं बल्कि बच्चों को और कई प्रकार की शिक्षा देना चाहती थी. विक्रम अपने 8 भाई बहनों में से एक इकलौते ऐसे थे, जिन्होंने भारत को सम्माननीय और गर्व से भरा देश बनाने के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया.

अपने जीवन के अतिंम समय में डॉ साराभाई ने अपने कार्यकाल में बहुत बड़े-बड़े काम किए अंत में रूचि रॉकेट के लॉन्च के बाद ठीक उसी दिन पहले थुम्बा रेलवे स्टेशन की आधारशिला उन्होंने रखी थी. उसके बाद 30 दिसंबर 1971 को मात्र 52 साल की उम्र में हार्ट अटैक के कारण उनकी मृत्यु हो गई.

इंडोनेशिया में ज्वालामुखी के फटने से छाया अँधेरा

बैठक में मुख्यमंत्रियों से बोले पीएम मोदी- इस राज्यों में टेस्टिंग बढ़ाने की है जरूरत

न्यूयॉर्क के टाइम्स स्क्वायर पर रचने वाला है इतिहास