जब बीमारी का इलाज करते-करते बाबा साहेब को दिल दे बैठीं डॉक्टर और फिर...

जब बीमारी का इलाज करते-करते बाबा साहेब को दिल दे बैठीं डॉक्टर और फिर...

नई दिल्ली: भारतीय संविधान के निर्माता डॉक्टर भीमराव आंबेडकर की आज जयंती है। इस विशेष अवसर पर आज हम उनसे सम्बंधित एक ऐसी बात बताने जा रहे हैं जो शायद ही आप लोगों को पता होगी। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि अंबेडकर ने दो शादियां की थी। उनका दूसरा विवाह सविता से हुआ था। संभ्रात मराठी ब्राह्मण परिवार में जन्मी सविता प्रोफेशन से डॉक्टर थीं।

वर्ष 1947 के लगभग बाबासाहेब डायबिटीज, ब्लड प्रेशर से जूझ रहे थे। बीमारी के कारण उनके पैरों में समस्या काफी बढ़ गई थी। जिसके बाद मुंबई की डॉक्टर सविता ने उनका उपचार करना शुरू किया। सविता पुणे में उपचार के दौरान आंबेडकर के नजदीक आईं. दोनों की उम्र में कुछ अंतर था। 15 अप्रैल 1948 को आंबेडकर ने अपने दिल्ली स्थित घर में उनसे विवाह रचा लिया।

विवाह के बाद दोनों को अपने-अपने वर्ग की नाराजगी का सामना करना पड़ा। आंबेडकर के बेटे और करीबी रिश्तेदार इस शादी के सख्त खिलाफ थे। रिश्तेदारों में यह खटास ताउम्र बनी रही। किन्तु इन सब विवादों से दूर सविता माई (बाद में उन्हें माई ही कहा जाने लगा था) ने पूरी ईमानदारी और पतिव्रता धर्म का पालन करते हुए मरते दम तक आंबेडकर का ख्याल रखा और उनकी सेवा में जुटी रहीं।

खबरें और भी:-

कभी खुद से 6 साल बड़े एक्टर से रहे थे अनीता हसनंदानी के संबंध, किया था चीट

B'Day : अपना 44वां जन्मदिन मना रही हैं राजेश्वरी

B'Day : बहुमुखी प्रतिभा के महारथी हैं सतीश कौशिक