बिहार में चार साल से शराबबंदी, लेकिन धड़ल्ले से हो रही अवैध शराब की तस्करी

पटना: बिहार में शराब बंदी लागू हुए चार साल से अधिक हो चुके हैं, किन्तु शराब की तस्करी कम नहीं हो रही है. जबकि कोरोना वायरस महामारी के कारण लागू हुए लॉकडाउन के चलते चप्पे-चप्पे पर पुलिस प्रशासन की तैनाती के दावे किए जा रहे हैं. इसके बाबजूद शराब की तस्करी हो रही है. 

दरअसल मामला जक्कनपुर थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले मीठापुर बी एरिया का है. जहां पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर भारी मात्रा में अवैध विदेशी शराब के साथ दो शराब तस्करों को अरेस्ट करने में सफलता पाई है. किन्तु सवाल ये उठ रहा है कि शराब की तस्करी हो ही क्यों रही है जबकि 4 साल से शराब बंदी लागू है.  इसके अलावा राज्य की राजधानी पटना के शहरी इलाके में भी पुलिस की टीम द्वारा सभी चौक-चौराहों पर एक-एक वाहन की तलाशी ली जा रही हैं ताकि शराब तो क्या एक सुई भी पुलिस की नजर से बच के नहीं जा सके.

आपको बता दें कि जब लॉकडाउन में वाहनों के आवागमन पर रोक है. तो इतनी चौकसी के बाद भी बिहार में अंग्रेजी शराब, ब्राउन सुगर, नशीली दवाइयां, गांजा की बरामदगी होना, कहीं न कहीं पुलिस प्रशासन के कार्यशैली पर सवाल खड़ा करता है.

राष्ट्रीय तकनिकी दिवस पर पीएम मोदी ने किया 'अटलजी' को याद, परमाणु परीक्षण के लिए किया नमन

कोरोना: भारत की पहली स्वदेशी किट तैयार, एंटीबॉडी का पता लगाएगी 'एलीसा'

रेस्टोरेंट और होटल की सरकार से मांग, शराब की होम डिलीवरी करने की अनुमति दें

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -