कोरोना से जंग में आगे निकला बिहार, तेजी से घट रहे केस

पटना: बिहार प्रशासन आगामी विधानसभा चुनावों की तैयारी में मगन है, दूसरी ओर राज्य में कोरोना से निपटने की रणनीतियों को लेकर सियासत तेज हो गई है. कोरोना महामारी के प्रारंभिक दिनों में स्वास्थ्य विशेषज्ञ बिहार को लेकर चिंतित थे क्योंकि यहां न केवल भारत की सबसे अधिक प्रवासी आबादी रहती है, बल्कि स्वास्थ्य सुविधाएं भी ठीक नहीं हैं.

किन्तु अब कोरोना महामारी के खिलाफ जंग में बिहार काफी आगे निकलता दिख रहा है, क्योंकि यहां मामलों की तादाद उल्लेखनीय ढंग से कम हो गई है. विशेषज्ञों की राय है कि रैपिड एंटीजन टेस्ट (RAT) का व्यापक इस्तेमाल भी मामलों में गिरावट का एक वजह हो सकता है जिसकी विश्वसनीयता पहले से ही सवालों के दायरे में है. यदि सितंबर के पिछले दो सप्ताह (11-23 सितंबर) की तुलना अगस्त की इसी अवधि (11-23 अगस्त) से करें तो राज्य के तक़रीबन सभी जिलों में कम मामले दर्ज किए गए हैं.

जिलेवार आंकड़ों से पता चलता है कि बिहार के 38 में से 36 जिलों में कोरोना मामलों की तादाद कम हो गई है. सबसे अधिक गिरावट पटना में दर्ज हुई है. 11-23 अगस्त के बीच पटना में जितने मामले सामने आए थे, उसकी तुलना में 11-23 सितंबर के बीच 1,817 केस कम दर्ज किए गए हैं.

भगत सिंह पर जावेद अख्तर ने कर दिया ऐसा ट्वीट, फूटा बॉलीवुड की 'क्वीन' का गुस्सा

महंगा होने जा रहा है ट्रेन का सफर ! जानें कौन-कौनसे चार्ज वसूलेगा रेलवे

आज फिर गिरा डीजल का भाव, जानिए नई कीमत

 

- Sponsored Advert -

Most Popular

- Sponsored Advert -